13/09/2016    सिक्किम देश का सर्वाधिक स्वच्छ राज्य
पेयजल एवं स्वच्छ मंत्रालय द्वारा स्वच्छ भारत अभियान के अन्तर्गत प्रगति का मूल्यांकन करने के लिए 26 राज्यों में किए गए सर्वेक्षण में सिक्किम को ग्रामीण स्वच्छता में देश भर में अव्वल आंका गया है तथा इसके चार जिलों को स्वच्छता एवं निर्मलता में देश के 10 सर्वश्रेष्ठ जिलों में आंका गया है।

पेयजल एंव स्चच्छता मंत्रालय द्वारा जारी स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2016 के अनुसार सिक्किम को प्रतिशत  प्रति घर शौचालय में 100 अंकों में से 98.2 अंक प्रदान करके देशभर में सर्वश्रेष्ठ आंका गया है। सिक्किम को प्रति घर / समुदाय द्वारा शौचालय के उपयोग तथा स्वामित्व के मामले में 100 प्रतिशत अंक प्रदान करके देश भर में सर्वश्रेष्ठ आंका गया है। पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय की ताजा रिपोर्ट के अनुसार स्वच्छता के मापदण्डों में सिक्किम के चार जिलों को देश के सर्वश्रेष्ठ माने जाने वाले 75 जिलों में से पहले दस जिलों में आंका गया है। सिक्किम के पश्चिम जिले, पूर्वी जिले, दक्षिणी जिले तथा उतरी जिले में 100 अंकों में से क्रमशः 96.4 अंक 93.7 अंक, 93.0 अंक तथा 90.7 अंक प्राप्त करके देश के सर्वश्रेष्ठ 10 जिलों में स्थान प्राप्त किया है। 
स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2016 के अनुसार सिक्किम की पूरी 6,10,577 जनसंख्या उच्च स्वच्छता तथा हाईजीन के मापदण्डों पर खरा उतरने वाले शौचालयों का प्रयोग करती है तथा राज्य के शत प्रतिशत लोग गृह तथा सामुदायिक शौचालयों का प्रयोग कर रहे है।
सिक्किम के मुख्य मंत्री पवन चामलिंग ने राज्य के 7096 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रा में पूर्ण स्वच्छता अभियान के लिए वर्ष 1999 में राज्य के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में अभियान शुरू किया । सिक्किम देश का पहला राज्य है जिसे खुले में शौच की प्रथा को पूरी तथा खत्म कर दिया है तथा राज्य के 4 जिलों के 16 उपमण्डलों के अन्तर्गत 446 गांवों को पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय के मापदण्डों के अनुरूप ओपन डेपफेकेशन प्रफी घोषित किया जा चुका है तथा प्रधनमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 मई 2016 Click here for more interviews

Copyright @ 2017.