08/02/2017     भारत का हर नागरिक स्वतंत्र होते हुए भी अभी तक दलितों के साथ हो रहा हैं ,
राजस्थान :7/2/2017: जालोर: राजस्थान राज्य के जालोर जिले के भीनमाल उपखण्ड मुख्यालय के खानपुर के आदर्श राजकीय माध्यमिक विद्यालय में दलित छात्रों से शौचालय की सफाई करवाई जा रही हैं । विघालय के दलित बच्चे अभी तक झेल रहे हैं , गुलामी का दंश ।

 भारत का हर नागरिक  स्वतंत्र होते हुए भी अभी तक दलितों के साथ हो रहा हैं , शोषण । प्रशासन बैखोफ । राजस्थान राज्य के जालोर जिले के भीनमाल उपखण्ड मुख्यालय के खानपुर के आदर्श माध्यमिक विघालय में दलित छात्रों से शौचालय की सफाई करवाई जा रही हैं ।विघालय के दलित बच्चे अभी तक झेल रहे हैं , गुलामी का दंश । आज भारत देश का हर नागरिक स्वतंत्र होते हुए भी अभी तक दलितों के साथ हो रहा हैं , शोषण । प्रशासन बैखौफ । प्रशासन यह सब जानते हुए भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही हैं। जहाँ  एक ओर अपना देश अंग्रेजो की गुलामी से आजाद हुए सात दशक हो चुके है , लेकिन वर्तमान मे भी दलित छात्रों  के लिए गुलामी जैसा ही व्यवहार विद्यालय मे भी किया जा रहा है। यह घटना  जालोर जिले के भीनमाल उपखण्ड मुख्यालय के आदर्श राजकीय  माध्यमिक विद्यालय खानपुर मे देखने को मिली हैं ।  संविधान मे अनिवार्य शिक्षा का अधिनियन 2009 के अनुसार  6 से 14 साल के बच्चों को शिक्षा देना अनिवार्य कर दिया है , वही दूसरी और राजकीय विद्यालय मे पढने वाले दलित छात्रो से प्रतिदिन शौचालय की सफाई करवाई जा रही है। छात्रों द्वारा मना करने पर डांट फटकार और विद्यालय से निकाले जाने की धमकियाँ  भी दी जाती है , जिससे मजबूरन छात्रो को ऐसे गंदे काम करने पड़ते है। इतना ही नहीं आदर्श राजकीय माध्यमिक विद्यालय खानपुर मे पोषाहार बनाने के लिए छात्र छात्राओ द्वारा लकड़िया काटने का कार्य और सब्जी काटने का कार्य भी करवाया जाता है। आखिर  ऐसे कैसे शिक्षा प्राप्त करेंगे , यह दलित छात्र ? और आखिर कैसे पढ़ लिखकर यह आगे बढ़ पाएंगे , यह दलित छात्र ? आखिर इन नौनिहालों के माता - पिता इन बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए विघालय भेजते हैं , या फिर शौचालय की साफ - सफाई करने या लकड़ियाँ काटने और सब्जियां काटने के लिए । प्रशासन को इस बात का मालुम हैं , फिर भी यह बैखाफ क्यों हैं ? क्या प्रशासन को इस प्रकार से विघालय में कार्य करवाने वाले शिक्षकों के खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही कर उनको कार्यमुक्त करना चाहिए , या फिर क्या प्रशासन की इस पुरे मामले में मिलीभगत हैं ? आखिर प्रशासन क्यों नहीं करती कार्यवाही ? या फिर यह माजरा ऐसा ही चलता रहेगा ।   हमारी टीम ने और जिला संवाददाता जालोर से कान्ति लाल मेघवाल ने जब भीनमाल के आदर्श राजकीय माध्यमिक विघालय खानपुर  का जायजा लिया , तब हुआ वास्तविक इस बात का खुलासा । और जब जिला संवाददाता जालोर से कान्ति लाल मेघवाल ने ग्राम पंचायत खानपुर के सरपंच अशोक पुरोहित से जब बात की तब उन्होंने कहा की ,

Click here for more interviews
Copyright @ 2017.