11/04/2019    अपने दायित्व को ईमानदारी से निभाएं व वनों के विस्तार व संरक्षण के हर प्रयास करें- अजय कुमार
आज वन प्रशिक्षण संस्थान चायल में वन रक्षकों के 62वें बैच का दीक्षांत समारोह हुआ। समारोह में अजय कुमार, प्रधान मुख्य अरण्यपाल (वन बल प्रमुख) हिमाचल प्रदेश, ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

 इस अवसर पर हरी सिंह डोगरा, अतिरिक्त प्रधान मुख्य अरण्यपाल, (अनुसंधान एवं प्रशिक्षण) सुन्दरनगर विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित रहे। वन प्रशिक्षण संस्थान चायल के निदेशक बी0एस0 राणा ने मुख्य अतिथि का स्वागत करके उन्हें सम्मानित किया तदोपरान्त संस्थान की 62वें बैच की कोर्स रिपोर्ट प्रस्तुत की।उन्होंने प्रशिक्षुओं की गतिविधियों की जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इस बैच में 7 वन वृतों सहित हिमालयन वन अनुसंधान केन्द्र के कुल 47 प्रशिक्षणार्थियों ने छः महिनों का प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूर्ण किया। इस प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षुओं को वानिकी सम्बन्धित विभिन्न विषयों की जानकारी दी गई तथा प्रयोगात्मक अनुभव के लिए उन्हें विभिन्न स्थानों का भ्रमण करवाया गया।

इस अवसर पर सभी प्रशिक्षुओं को प्रमाण पत्र वितरित किए गए। प्रशिक्षण में सुनील कुमार ने प्रथम, अमित धर्मा ने द्वितीय तथा विरेन्द्र कुमार ने तृतीय स्थान हासिल किया। इसके अतिरिक्त सुनील कुमार, अमित कुमार, विरेन्द्र कुमार, शुभम चौहान, अनिल कुमार, सुमित शर्मा, राकेश, चरणजीत, राहुल, सुरेश एवं गौरव मोहन को विशेष योग्यता प्रमाण पत्र भी दिए गए। 62वें प्रशिक्षण बैच में हरफनमौला प्रशिक्षु का पुरस्कार विरेन्द्र कुमार को दिया गया। संस्थान द्वारा आयोजित दौड़ प्रतियोगिता में अक्षय, राहुल एवं राजेश ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया व इस मौके पर उन्हें भी परस्कृत किया गया।

मुख्य अतिथि ने प्रशिक्षुओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि सभी प्रशिक्षु अपने- अपन कार्य क्षेत्र में अपने दायित्व को ईमानदारी से निभाएं व वनों के विस्तार व संरक्षण के चुनौतीपूर्ण कार्य को पूर्ण करने की दिशा में हर प्रयास करें। अन्होंने सभी प्रशिक्षुओं को शुभकामनाएं दी व उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

इस अवसर पर हितेन्द्र शर्मा, संयुक्त निदेशक वन प्रशिक्षण संस्थान चायल,अतुल चौधरी, उप-निदेशक वन प्रशिक्षण संस्थान चायल सहित संस्थान के सभी अघिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे। 

राजीव निशाना, समाचार वार्ता, 9266612000



Click here for more interviews
Copyright @ 2017.