05/12/2019    पालिका परिषद् अध्यक्ष ने चार दिवसीय विज्ञान मेले का उद्घाटन किया
नई दिल्ली नगरपालिका परिषद् अपने सभी विद्यालयों में एक ऐसा वातावरण बनाने के लिए प्रयासरत है, जहाॅं विद्यार्थियों को विज्ञान ही नही अपितु मानविकी विषयों पर बुðिमतापूर्ण सृजनात्मकता के साथ अपने विचारों को क्रियान्नवित करने के लिए प्रोत्साहन मिल सके ।

 इस उद्देश्य के लिए पलिका परिषद् के 10 विद्यालयों में अटल टिकंरिग लेब पहले से स्थापित की जा चुकी है और जल्द ही सभी अन्य विद्यालयो में इस प्रकार की लेब स्थापित कर दी जाएगी।‘‘

यह बात आज नई दिल्ली नगरपालिका परिषद् के अध्यक्ष धर्मेन्द्र ने पालिका परिषद् और नवयुग विद्यालयों के चार दिवसीय विज्ञान मेले के उद्घाटन करने के उपरान्त कही । यह विज्ञान मेला ‘‘सतत् विकास के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी‘‘ विषय पर अटल आदर्श विद्यालय(प्राथमिक), लोधी रोड, नई दिल्ली में आयोजित किया गया है।

इस अवसर पर विद्यार्थियों, अध्यापकों और अन्य कर्मचारियों को संबोधित करते हुए पालिका परिषद् अध्यक्ष, धर्मेन्द्र ने कहा कि इस विज्ञान मेले में विद्यार्थियों द्वारा प्रदर्शित किए गए विभिन्न माॅडल और उनके संबंध में दिए गए विवरण से वह काफी प्रभावित हुए हैं । उन्होंने कहा कि यहाॅं प्रदर्शित किए गए प्रोजेक्ट एवं माॅडल विद्यार्थियों  की आयु और कक्षा के स्तर से काफी उच्च स्तर के हैं और इससे यह स्पष्ट होता है कि उन्होंने इनको बनाने के लिए कितनी लगन से सिखा और फिर अपनी सृजनात्मकता से उसे बनाया भी है । धर्मेन्द्र ने यह भी कहा कि विद्यर्थियों ने समाज में दिन-प्रतिदिन की समस्याओं के समाधान निकालने का और उन्हें यहाॅं प्रदर्शित करने का भी बेहतर प्रयास किया है, उनमें सौर ऊर्जा, स्मार्ट फ्रार्मिगं जैसे विषय शामिल हैं।

   पालिका परिषद् के निदेशक (शिक्षा),  आर.पी.गुप्ता ने अपने स्वागत भाषण में बताया कि इस विज्ञान मेले को पिछले 40 वर्षों से आयोजित किया जा रहा है लेकिन इसमें पिछले दो वर्षों से सरकारी, प्राईवेट और पब्लिक विद्यालयों को भी भाग लेने का अवसर दिया जा रहा है, जिससे इसका स्वरूप और आयाम विस्तृत हो सके । इस साल इस मेंले में पालिका परिषद् क्षेत्र के सेंट थाॅमस, सेंट कोलम्बस, माॅडर्न स्कूल, हमदर्द पब्लिक स्कूल और अनुदान आधारित विद्यालयों के विद्यार्थियों ने भी भाग लिया है ।

विज्ञान मेले का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए गुप्ता ने कहा कि विज्ञान मेले के द्वारा विद्यार्थियांे को अपनी कल्पना और सृजनात्मकता को मूर्त रूप में साकार करने का एक मंच दिया जाता है । इस विज्ञान मेले में 50 विद्यालयों के 200 से अधिक विद्यार्थियांे और 100 अध्यापकों के माॅडल एवं प्रोजेक्ट प्रदर्शित किए गए हैं।

इस मेले में 150 से अधिक माॅडल और प्रोजेक्ट विभिन्न उप-विषयों पर यहाॅं प्रदर्शित किए गए उनमें कृषि, औद्योगिक विकास, संसाधन प्रबंधन एवं भविष्य के लिए परिवहन एवं संचार जैसे विषय शामिल है । इस मेले मे


Click here for more interviews
Copyright @ 2017.