16/07/2015  स्किल इंडिया पर जयराम का बयान, मध्य प्रदेश में चल रहा है 'किल इंडिया''

नई दिल्ली । कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना स्किल इंडिया अभियान पर निशाना साधा है। उन्होंने व्यापमं की आड़ लेते हुए पीएम पर कटाक्ष किया कि एक तरफ पीएम कहते हैं कि स्किल इंडिया और मध्य प्रदेश में चल रहा है किल इंडिया।

रमेश ने मध्य प्रदेश में हुए व्यापमं घोटाले पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि जब तक शिवराज अपने पद पर बैठे रहेंगे तब तक निष्पक्ष जांच की उम्मीद कम है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्किल इंडिया अभियान की शुरुआत कर रहे हैं।

2011 में व्या।पमं घोटाले की जांच के दौरान सुधीर शर्मा के ठिघ्कानों पर इनकम टैक्सअ के छापे में मिले कागजातों के आधार पर बनाई गई रिपोर्ट का हवाला देते हुए कांग्रेस प्रवक्ताु रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कान्फ्रें स में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का नाम भी घोटाले में घसीट लिया।

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि व्याधपम से हुई कमाई को भाजपा के मंत्रियों, आरएसएस नेताओं और सांसदों ने आपस में बांट लिया। यह पैसा कई तरह से बाटा गया और इनमें से एक था यात्राओं का भुगतान।'

सुरजेवाला का आरोप था कि, 'व्याापमं घोटाले के सुधीर शर्मा ने पूर्व मंत्री लक्ष्मीरकांत शर्मा के साथ मिलकर केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ पैसा बांटा था। छापे के दौरान मिले कागजातों के अनुसार सुधीर शर्मा ने प्रधान की हवाई यात्राओं का खर्च दिया था। शर्मा ने भाजपा उपध्यछक्ष प्रभात झा और उनके बेटों तुशमल झा और आयातन झा के खर्च भी दिए थे।'

सुरजेवाला ने इन लोगों के अलावा आरएसएस नेता सुरेश सोनी और बीजेपी के राज्यकसभा सांसद ए दवे के साथ भी सुधीर शर्मा द्वारा पैसों की हिस्सेसदारी की है। 'कांग्रेस ने धर्मेंद्र प्रधान के साथ ही मध्यस प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह के इस्ती्फे की मांग करते हुए कहा है कि, 'जब तक वो मुख्य्मंत्री बने रहेंगे पूरे घोटाले में निष्प क्ष जांच संभव नहीं है।'

सुरजेवाला ने शिवराज सिंह पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि वो प्रदेश और विधानसभा को जांच के मामले में भटका रहे हैं। कुछ नए कागजात पेश करते हुए उन्हों ने आरोप लगाया कि तत्काकलीन स्वरस्य्ं न शिक्षा मंत्री के रूप में शिवराज सिंह ने विधानसभा में 31 मार्च 2011 को बताया था कि कोई भी फर्जी उम्मीरदवार प्रोफेशनल परीक्षा में पहचाना नहीं गया है। जबकि, दो साल पहले राज्य में एफआईआर दर्ज की गई जिसमें दो फर्जी उम्मीादवारों के नाम थे। इसके अलावा भी इंदौर, भोपाल और दूसरे शहरों में फर्जी छात्रों के खिलाफ मामले दर्ज हुए थे।'

सुरजेवाला ने दावा किया कि, 'मुख्य मंत्री ने हैदराबाद लैब द्वारा फोरेंसिक जांच किए जाने की बात कही थी लेकिन आरटीआई में खुलासा हुआ है कि एसटीएफ द्वारा ऐसी कोई जांच नहीं की गई।' सुरजेवाला ने शिवराज पर घोटाले में शामिल लोगों को बचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि, चौहान ने विधानसभा में कहा था कि छात्रों और उनके परिजनों के खिलाफ जांच जारी है लेकिन किसी अधघ्किारी को दोषी नहीं पाया गया।'

सुरजेवाला के अनुसार, सीएम ने सदन को यह कहते हुए भ्रमित किया था कि कोई भी सरकारी या व्यरपामं अधिकारी इसमें लिप्ते नहीं है लेकिन बाद में वहीं उन्होंहने यह माना था कि लगभग 1000 लोगों का गलत तरीके से रिक्रूटमेंट हुआ। उन लोगों के खिलाफ क्यों कोई कदम नहीं उठाया गया?' हालांकि, कांग्रेस के आरोपों को प्रभात झा और धर्मेंद्र प्रधान ने खरीज करते हुए कहा कि उनका कोई भी हवाई खर्च सुधीर शर्मा ने नहीं दिया।

Copyright @ 2017.