दिल्ली, DELHI हरियाणा , HARYANA पंजाब, PUNJAB चंडीगढ़, CHANDIGARH हिमाचल HIMACHAL राजस्थान, RAJASTHAN अंर्तराष्ट्रीय INTERNATIONAL उत्तराखण्ड, UTTRAKHAND महाराष्ट्र , MAHARASHTRA मध्य प्रदेश MADHYA PRADESH गुजरात GUJRAT नेशनल, NATIONAL छत्तीसगढ CG उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH बिहार, BIHAR Hacked BY MSTL3N Hacker # ~
Breaking News
22 जनवरी तक उच्चतम न्यायालय ने आसाराम की रिपोर्ट मांगी    |   पुरस्कार वितरण समारोह के साथ संपन्न हई यमुना ट्रॉफी 2017-18   |  20 लाख श्रद्धालुयों ने लगाई गंगा सागर में आस्था की डुबकी   |   क्राइम ब्रांच ने हथियार सप्लाई करने वाले तीन तस्करों को किया गिरफ्तार   |   सुप्रीम कोर्ट को नहीं बचाया गया तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा: जस्टिस चलेमेश्वर   |   सुषमा स्वराज ने हवाई अडडे पर की एक मां की मदद , बेटे के शव के साथ फंसी थी    |  तीन तलाक विधेयक को जमात ने महिला अधिकारों के खिलाफ बताया ।   |  आधार मुद्दे पर रिपोर्टर को अवार्ड मिले : स्नोडन   |  पिछले तीन-चार वर्षों में भारत के प्रति बदला है दुनिया का नजरिया : मोदी   |  सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाना स्वैच्छिक है: उच्चतम न्यायालय   |  
दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा सीट पर उपचुनाव का परिणाम। सभी पाठकों को डॉ भीम राव अम्बेडकर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ।Hackd MsTl3n MCD चुनाव के पहले रुझान में बीजेपी आगे।नगर निगम चुनाव के पहले रुझान में कांग्रेस ने आप को पछाडा।
03/08/2015  
रुला रही है प्याज
 
 

सत्ता बदलने की ताकत रखने वाली प्याज आज फिर से उछाल पर है।, आपूर्ति के कारण इस वर्ष फिर से प्याज के दाम आसमान पर चढ़ने लगे इस साप्ताहिक बाजार में प्याज का रेट 40 और 50 रू. दर्ज किया गया आने वाले समय में इसमें और तेजी आने की संभावना है। जिस कारण माना जा रहा है। कि गरीब की रसोई से प्याज पुरी तरह से गायब हो सकता है।

बता दें कि मंहगाई से लोग पहले ही परेशान है। और अब प्याज के बढ़ते दामों ने लोगों को और हलाकान कर दिया है। प्याज के बढ़े दामों को व्यापक असर गरीबों के अलावा मध्यम वर्ग पर भी पड़ेगा. ज्ञात हो कि क्षेत्र में प्याज की पैदावार बिल्कुल भी नहीं होती मार्केट में बिकने वाला प्याज अन्य राज्यों और जिलों से कटंगी पहूचता है।

उल्लेखनीय है। कि प्याज के बढ़े हुए दामों से गृहणियां भी परेशान हो गई है। वे प्याज के बढ़ते हुए दामों के लिए सरकार को दोषी ठहराती है। उनका मानना है। कि कुछ व्यापारी प्याज को जमा करके काला बाजारी करते है। जिस कारण प्रतिवर्ष प्याज के दामों में उछाल दर्ज की जाती है। गृहणियों ने ऐसे कालाबाजारी करने वाले लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है।

प्याज के दामों ने लोगों को अभी से रूलाना शुरू कर दिया है। इसके अलावा अन्य सब्जियों के दामों में भी काफी उछाल आई है। कुछ दिनों पहले तक जो सब्जियां हाथठेलों में बिका करती थी वे बड़े हुई दामों के कारण बाजार जाकर खरीदनी पड़ रही है।

      Back
 
Copyright @ 2017.