06/05/2016  मेरे फ्रंट की बढती लोकप्रियता के चलते बिट्टा करवा सकता है मेरी हत्या-वीरेश शांडिल्य
पंचकूला-एंटी टेररिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने कहा की हिमाचल के हरीश वर्मा  को बिट्टा ने हिमाचल का इंचार्ज बनाया हुआ जबकि वो फेक आईपीएस केस में अम्बाला जेल में 2012 में था और बिट्टा उस मास्टर माइंड हरीश की गाड़ी ऑडी जिसका नंबर HP12E 0001 है । बिट्टा इस गाड़ी पर लाल बत्ती लगाकर कौन सा क्राइम करते हैं इसकी जाँच गृह मंत्रलाय और सुप्रीम कोर्ट करे । शांडिल्य आज यहाँ रेड बिशप में पत्रकारो से बातचीत कर रहे थे । शांडिल्य ने बिट्टा को आड़े हाथों लेते हुए कहा की वो देश भक्त नहीं बल्कि जेड प्लस सुरक्षा और दिल्ली 14 तालकटोरा और चंडीगढ़ में मिले सरकारी बंगलों के नाम पर सरकार के खर्च को दीमक की तरह खा रहा है उन्होंने कहा बिट्टा देश के लोगो पर आर्थिक बोझ है वही शांडिल्य ने कहा की हरिश वर्मा एक क्रिमिनल हैं और फेक आईपीएस व सीबीआई अधिकारी बन कर लोगो को लूटते थे बिट्टा के रिश्तो की जाँच हो और बिट्टा इस गाड़ी पर लाल बत्ती लगाकर घूम रहा जिसकी जाँच हो की बिट्टा लाल बत्ती की आड़ में कोई अवैध धंधे में तो शामिल नहीं हैं।

एंटी टेररिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने बिट्टा के दिल्ली और चंडीगढ़ की कोठियां खाली हों इसके लिए मोदी राजनाथ और चीफ जस्टिस सुप्रीम कोर्ट को पत्र लिखा और कहा की बिट्टा इन कोठियों के दम पर लोगो पर प्रभाव बनाते हैं और भोले भाले लोगो को कहते हैं की ये कोठियां उन्हें केंद्र सरकार ने आल इंडिया एंटी टेररिस्ट फ्रंट का चेयरमेन बनाने के बाद दी हुई बिट्टा की दिल्ली वाली कोठियां में तो यूपी के लोग दिल्ली के लोग आते हैं और बिट्टा सुरक्षा के प्रभाव के कारन और कोठियों का रौब देकर विवादित प्रोपटी खाली करवाते है  इसकी भी जाँच हो।और इस देश में आतंकवाद के खिलाफ बिट्टा ने जमीनी सतर् पर काया काम किया इसकी जाँच हो और देश के लिए बिट्टा का कया तयाग है इसकी जाँच हो,सिर्फ बिट्टा जेड सुरक्षा और कोठियों का इस्तेमाल समाज में प्रभाव बनाने  और पैसे कमाने के लिए करते हैं।

एटीएफआई के सुप्रीमो वीरेश शांडिल्य ने कहा की बिट्टा वाइट पेपर जारी करे की 1992 तक उसके पास कितनी चल अचल संम्पति ,कितने पेट्राल पंप थे और अब क्या है उन्होंने बिट्टा की संम्पति की ई.डी और सीबीआई से करवाने की मामांग की जिससे बिट्टा का असली चेहरा सामने आ सके। उन्होंने बिट्टा से पूछा उसको किसने जिन्दा शहीद बनाया । हर वक़्त टीवी में मुछे ऊपर करने वाले बिट्टा  सिर्फ जेड सुरक्षा और कोठियों से करोडो अरबो की सम्मति बना चुके हैं। मोदी राजनाथ और सुप्रीम कोर्ट को भेजे पत्र में कहा की लाल बत्ती लगाने के लिए बिट्टा को कोई अधिकार नहीं फिर भी कभी अपनी गाडियो पर तो कभी ऑडी पर लाल बत्ती लगाने का क्या अर्थ हे ये जाँच का विषय है। इन गाड़ियों पर लाल बत्ती लगा कर बिट्टा के क्रिमिनल से क्या सम्बन्ध हैं और जिन गडियो पर लाल बत्ती बिट्टा लगा कर घूमता है वो किसके नाम है। बिट्टा शिमला पांच सितारा होटल में किसके खर्च पर रुकता है इसकी जाँच की जाये। वही शांडिल्य ने कहा जो बिट्टा के खिलाफ उन्होंने शिकायत दी उसके बाद बिट्टा उनकी हत्या करवा सकते हैं। क्यों की इस शिकायत के बाद बिट्टा का असली चेहरा सामने आ  या और  यही नहीं बिट्टा ने 14 तालकटोरा रोड पर सरकारी कोठी का मिसयूज किया उस पते पर दूसरे लोगो के नाम मोबाइल फोन लिए हुए आधार कार्ड और वोटर कार्ड बनाये हुए जबकि उन फोनो का इस्तेमाल बिट्टा कर रहे इसकी जाँच हो।बिट्टा के पेट्रोल पंप पर उसकी पंजाब पुलिस की सुरक्षा ड्यूटी देती है इसकी भी जाँच हो। शांडिल्य ने कहा जब की जव पूर्व ग्रह मंत्री बूटा सिंह,पूर्व सीएम कल्याण सिंह, अश्वनी मिन्ना की जेड सुरक्षा और कोठियां खाली हो सकती हैं तो बिट्टा तो सुरक्षा के नाम पर दुकानदारी चला रहे हैं।

एंटी टेररिस्ट फ्रंट इंडिया (शांडिल्य गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने कहा की बिट्टा अपनी गाड़ी पर लाल बत्ती लगाकर घुमते है और क्रिमिनलों को अपने साथ रखते है इसकी शिकायत उन्होंने पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा,हिमाचल के डीजीपी संजय कुमार व दिल्ली पुलिस को दे दी है अगर 15 दिन के अंदर बिट्टा के खिलाफ कारवाई नहीं हुई तो वह सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। शांडिल्य ने कहा 2002 में बिट्टा ने उन्हें दिल्ली से जम्मू-कश्मीर तक आतंकवाद विरोधी रथयात्रा निकालने से रोका था और उनके द्वारा रथयात्रा निकालने पर ना तो दिल्ली से जम्मू-कश्मीर तक रथयात्रा का साथ दिया बल्कि आतंकवाद के खिलाफ रथयात्रा में रोड़े अटकाने के तरह-तरह के षड्यंत्र रचे बिट्टा ने ऐसा घिनौना काम क्यों किया क्यों मुझे आतंकवाद विरोधी रथयात्रा निकालने से रोका इस पर देश की जनता को स्पष्टीकरण दें। शांडिल्य ने कहा की एमएस बिट्टा उन्हें बर्दाश्त नहीं कर पा रहे और उनके फ्रंट की बढ़ती लोकप्रियता के चलते ही उन्होंने 2011 में उनके खिलाफ राजस्थान की लड़की खड़ी कर रेप जैसा फर्जी मुकदमा दर्ज करवाया शांडिल्य ने कहा बिट्टा लोगों को कहते है की उनका फ्रंट केंद्र सरकार का हिस्सा है तभी उन्हें दिल्ली और चंडीगढ़ में कोठियां मिली हुई है। एंटी टेररिस्ट फ्रंट इंडिया (शांडिल्य गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने कहा उन्होंने 2003 में अपने फ्रंट को पंजीकृत करवाया था लेकिन आठ साल में कभी बिट्टा ने उनके फ्रंट की रजिस्ट्रेशन रद्द करवाने की शिकायत नहीं दी थी बल्कि 2011 में रेप जैसा घिनौना आरोप लगवाने के बाद 5 दिन बाद ही उनके फ्रंट की रजिस्ट्रेशन रद्द करवाने के लिए एमएस बिट्टा ने शिकायत दी जिसमे उन्हें मुहँ की खानी पड़ी थी क्योंकि बिट्टा की शिकायत रद्द कर दी गयी थी लेकिन बिट्टा इस पर भी श्वेत पत्र जारी करें की मेरे फ्रंट को रद्द करवाने के लिए वह अदालत क्यों गए शांडिल्य का फ्रंट भी तो देश में आतंकवाद के खिलाफ मुहिम छेड़े हुए था उन्होंने कहा उनके फ्रंट की बढती लोकप्रियता के चलते बिट्टा उनकी हत्या करवा सकते है। इस मौके पर फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता राममैहर शर्मा,राकेश शांडिल्य,देवेन्द्र शर्मा,अजय आदि मौजूद थे।
Copyright @ 2017.