24/08/2016  क्यों दब गई पाक से सटे गांव की इस टॉपर लड़की की दर्दनाक मौत की खबर?

बाड़मेर। 17 साल की दलित लड़की डेल्टा बाड़मेर में पाकिस्तान से सटे गांव की रहने वाली थी। वह बारहवीं करने के बाद शिक्षिका बनने के लिए बीकानेर के नोखा में जैन आदर्श टीचर ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट फॉर गर्ल्स से BSTC की पढ़ाई कर रही थी।

वह एक बेहतरीन छात्रा और एक अद्भुत चित्रकार थी। 12वीं में पढ़ाई के दौरान उसने उसने आर्ट कॉम्पिटिशन में पूरा राजस्थान टॉप किया था। डेल्टा का एक आर्टवर्क 2006 में राजस्थान सचिवालय की मैग्जीन में भी छपा था। वह उस समय सिर्फ 7 साल की थी।

29 मार्च को, डेल्टा की लाश इंस्टिट्यूट के हॉस्टल की पानी की टंकी में संदिग्ध हालात में मिली थी। पुलिस डेल्टा के शव को नगरनिगम के कचरा उठाने वाली गाड़ी (ट्रैक्टर) में लेकर गई, वह भी वीडियोग्राफी कराए बिना। इंस्टिट्यूट के मुताबिक, पीटी टीचर विजेंद्र कुमार के कमरे में डेल्टा को पकड़ा गया था। दोनों को चेतावनी भी दी गई और लिखित में माफी मांगने को कहा गया। इसी के बाद डेल्टा ने आत्महत्या कर ली।

अब सवाल ये है कि आखिर क्यों इंस्टिट्यूट ने डेल्टा के माता-पिता को इसकी जानकारी नहीं दी? इंस्टिट्यूट ने क्यों पीटी टीचर को बाहर नहीं निकाला और उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई? आखिर डेल्टा नाबालिग थी।

डेल्टा के माता-पिता द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर के मुताबिक, उस वक्त हॉस्टल में सिर्फ 4 लड़कियां ही थीं और बाकी सभी लड़कियां अपने घर गई हुई थीं जो तब तक लौटी नहीं थीं। डेल्टा अपने पिता के साथ 28 फरवरी की सुबह ही हॉस्टल लौटी थी। शाम को 8 बजे, डेल्टा ने अपने पिता को फोन किया और कहा कि वॉर्डन प्रिया शुक्ला ने उसे पीटी इंस्ट्रक्टर के कमरे में भेजा था। डेल्टा ने बताया था कि पीटी टीचर ने कमरे में उसके साथ बलात्कार किया था।

माता-पिता के मुताबिक, यह सब बताते हुए डेल्टा बहुत डरी हुई थी। जब डेल्टा के माता-पिता को इस घटना की पूरी जानकारी मिल गई, इंस्टिट्यूट ने पीटी इंस्ट्रक्टर और डेल्टा से लिखित में माफीनामा ले लिया जिसमें बयान था कि जो भी हुआ वह आम सहमति से हुआ। अब जब डेल्टा के माता-पिता इसे मर्डर ठहरा रहे हैं और दिल्ली तक डेल्टा के लिए इंसाफ की मांग हो रही है, इंस्टिट्यूट की कार्रवाई अब तक संदेह के घेरे में है। परिवारवालों का कहना है कि इंस्टिट्यूट से प्रभावशाली लोग जुड़े हैं इसलिए डेल्टा को इंसाफ नहीं मिल सकेगा।

 

Copyright @ 2017.