दिल्ली, DELHI हरियाणा , HARYANA पंजाब, PUNJAB चंडीगढ़, CHANDIGARH हिमाचल HIMACHAL राजस्थान, RAJASTHAN अंर्तराष्ट्रीय INTERNATIONAL उत्तराखण्ड, UTTRAKHAND महाराष्ट्र , MAHARASHTRA मध्य प्रदेश MADHYA PRADESH गुजरात GUJRAT नेशनल, NATIONAL छत्तीसगढ CG उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH बिहार, BIHAR Hacked BY MSTL3N Hacker # ~
Breaking News
दिल्ली गुजरात विस्फोट का आतंकी अब्दुल कुरैशी गिरफ्तार, टली बड़ी साजिश   |  युवाओं के लिये घातक और जानलेवा है स्टेरॉयड्स : अरूण    |   क्राइम ब्रांच ने हथियार सप्लाई करने वाले तीन तस्करों को किया गिरफ्तार   |   सुप्रीम कोर्ट को नहीं बचाया गया तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा: जस्टिस चलेमेश्वर   |   सुषमा स्वराज ने हवाई अडडे पर की एक मां की मदद , बेटे के शव के साथ फंसी थी    |  तीन तलाक विधेयक को जमात ने महिला अधिकारों के खिलाफ बताया ।   |  आधार मुद्दे पर रिपोर्टर को अवार्ड मिले : स्नोडन   |  पिछले तीन-चार वर्षों में भारत के प्रति बदला है दुनिया का नजरिया : मोदी   |  सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाना स्वैच्छिक है: उच्चतम न्यायालय   |  शत्रुघ्न सिन्हा के आवास पर बीएमसी की गाज , अवैध विस्तार को गिराया   |  
दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा सीट पर उपचुनाव का परिणाम। सभी पाठकों को डॉ भीम राव अम्बेडकर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ।Hackd MsTl3n MCD चुनाव के पहले रुझान में बीजेपी आगे।नगर निगम चुनाव के पहले रुझान में कांग्रेस ने आप को पछाडा।
13/09/2016  
उत्तराखंड के पहाड़ी इलाक़ो मे उगाये जाने वाला मडुवा होता है काफी लाभदायक !
 
 

मडुवा गेंहू की तरह ही है इससे भी आटा निकलता है गेंहू का आटा जितना सफ़ेद होता है वही वही मडुवे का आटा इसके विपरीत बिलकुल काला होता है पर ये आटा गेहू के मुकाबले काफी लाभदायक होता है खाश तौर पर शुगर के मरीजों के लिए मडुवे का आटा किसी वरदान  से कम नहीं होता है !

इस आटे का जीता जागता उदाहरण है पहाड़ के बुजुर्ग जो आज भी 50 किलोमीटर तक पैदल चल लेते है !
पहले इन पहाड़ो मे गेहू की खेती काफी कम होती थी मडुवे की ही खेती होती थी और लोग मडुवे की ही रोटी खाते थे ना वो कभी बीमार होते थे और ना ही कभी थकते थे !
पुराने समय मे पहाड़ो मे सड़के नहीं होती थी और लोगो को शहर तक जाने के लिए पचासों किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता था और ये लोग सर पर सामान लें कर जाते थे इतनी जादा ताकत होती थी लोगो मे इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है और इसमें मडुवे का बहुत बड़ा योगदान होता था !
आज से लगभग 10 साल पहले तक इसकी काफी खेती हुवा करती थी पर समय के साथ इसकी खेती भी कम होती गयी इसका मुख्य कारण ये भी है !
नई पीढ़ी द्वारा मडुवे को अनदेखी करना ! 
दूसरा मुख्य कारण है पहाड़ से लोगों का शहर की और पलायन !
अब तो मडुवा नाम मात्र भर के लिए होता है और जिसको हाथो हाथ बेच दिया जाता है ! जिन लोगो को इसका फायदा मालूम होता है वो लोग इसको मुँह मागे दामो पर खरीद लेते है ! धीरे धीरे पहाड़ी खेतो से विलुप्त होता मडुवा एक चिंताजनक विषय है !
उत्तराखंड से संतोष बोरा की रिपोट

      Back
 
Copyright @ 2017.