14/07/2017  
स्वास्थय मंत्री श्री अनिल विज ने कहा की राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजो से एमबीबीएस करने वाले चिकित्सकों को 2 वर्ष तक प्रदेश के सरकारी अस्पतालों को सेवा देनी अनिवार्य होगी
 
 

हरियाणा के स्वास्थय मंत्री श्री अनिल विज ने कहा की राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजो से एमबीबीएस करने वाले चिकित्सकों को 2 वर्ष तक प्रदेश के सरकारी अस्पतालों को सेवा देनी अनिवार्य होगी। इसके लिए विवरणिका में भी अनुच्छेद डाला जायेगा।
श्री विज ने आज चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसन्धान विभाग की बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इससे राज्य में चिकित्सकों की कमी दूर होगी। प्रदेश के 4 सरकारी अस्पतालों से 2 वर्ष के दौरान करीब 800 डॉक्टर मिलेगें, जिससे हरियाणा के लोगो को डॉक्टर्स की कमी नही अनुभव होगी।इसके अलावा पीजीआईएमएस रोहतक के दन्तक कॉलेज की सीटों को बढाकर 60 से 100 किया गया है, इससे भी दन्त चिकित्सको की उपलब्धता बढ़ेगी।
श्री विज ने बताया की राज्य के 6 सरकारी अस्पतालों में डी एन बी के कोर्स शुरू किये जायेंगे ताकि अधिक से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टर निकल सकें। उन्होंने कहा कि भिवानी के सरकारी मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास 29 जुलाई को किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल तथा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे पी नड्डा मुख्य अतिथि होंगे।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा की फरीदाबाद के गोल्ड फिल्ड मेडिकल कॉलेज के पदाधिकारियों ने इसे सरकार द्वारा अधिगृहित करने की अपील की गई है, जिसको मुख्यमंत्री के सामने रखा जायेगा।

      Back
 
Copyright @ 2017.