:
दिल्ली, DELHI हरियाणा , HARYANA पंजाब, PUNJAB चंडीगढ़, CHANDIGARH हिमाचल HIMACHAL राजस्थान, RAJASTHAN अंर्तराष्ट्रीय INTERNATIONAL उत्तराखण्ड, UTTRAKHAND महाराष्ट्र , MAHARASHTRA मध्य प्रदेश MADHYA PRADESH गुजरात GUJRAT नेशनल, NATIONAL छत्तीसगढ CG उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH बिहार, BIHAR
ताज़ा खबर
हिंदी दिवस पखवाड़ा पर युवाओं को स्वच्छता अभियान का हिस्सा बने का दिया सन्देश   |   लवकुंश रामलीला में 40 बॉलीवुड एक्टर ले रहे है भाग   |  शराबबंदी के बाद अब एनर्जी ड्रिंक और फ्रूट बियर पर उठे सवाल,SC ने कहा पटना हाईकोर्ट तय करे…   |   हिंदी दिवस पखवाडा पर नारा लेखन प्रतियोगिता का आयोजन   |   ब्लॉक स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन    |  *दिल्ली का वांछित अपराधी सोनू दरियापुर गिरफ्तार*   |  ‘डिजिटल समावेशन वित्‍तीय समावेशन की बुनियाद है’ – रविशंकर प्रसाद    |  भारत, बेलारूस के साथ रिश्‍ते मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्ध : राष्‍ट्रपति    |   अन्तरसामूहिक संवाद उपागमयुक्त 12 दिवसीय कोर्स की विधिवत शुरुआत    |  14वें मटकी फोड़ कार्यक्रम गोविंदा आला रे में सुप्रसिद्ध गायक कलाकार श्री मनोज तिवारी व श्री दलेर मेंहदी अपनी कला का जौहर बिखेरेंगे।   |  
दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा सीट पर उपचुनाव का परिणाम। सभी पाठकों को डॉ भीम राव अम्बेडकर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ।श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव में वोटों की गिनती जारी।MCD चुनाव के पहले रुझान में बीजेपी आगे।नगर निगम चुनाव के पहले रुझान में कांग्रेस ने आप को पछाडा।
26/07/2017  
रामनाथ कोविंद के शपथ समारोह में जय श्रीराम के नारे ने फिर खोली बीजेपी की कलई
 
 

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के शपथ समारोह को देख रहा था, तभी बीजेपी के दलित चेहरा रहे बंगारू लक्ष्मण की याद आ गई. एक मीडिया हाउस के स्टिंग ऑपरेशन में फंसने के बाद लक्ष्मण को पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था. इसके साथ ही उनके राजनीतिक कॅरियर पर विराम लग गया था. लक्ष्मण पर पार्टी ने किसी भी तरह की सहानुभूति दिखाने से इनकार कर दिया था. बीजेपी अध्यक्ष बनने वाले वह पहले दलित नेता थे. वह ऐसे समुदाय से आते थे, जो हमेशा से ही हाशिए पर रहा और उत्पीड़न का शिकार रहा. उनका बीजेपी अध्यक्ष बनना भी अप्रत्याशित था. हकीकत यह है कि उनकी बीजेपी अध्यक्ष पद पर नियुक्ति राजनीतिक फायदे के लिए की गई थी. हालांकि लक्ष्मण को पद से हटाने के पीछे वजह थी, लेकिन उनके खिलाफ कार्रवाई के दौरान जाति फैक्टर को नजरअंदाज नहीं किया जा सका. अब यह सवाल उठना लाजमी है कि बीजेपी के लिए कोविंद को राष्ट्रपति बनाया जाना क्या मायने रखता है?
सेंट्रल हाल में जय श्रीराम के नारे लगाने की परीक्षा सिर्फ उसी वक्त होगी, जब हिंदू धर्म से इतर अन्य धर्म से जुड़े नारे लगाए जाएंगे. यह सवाल उठ रहा है कि क्या तब बीजेपी ऐसे नारों का स्वागत करेगी? यह बीजेपी के लिए खुशी का दिन है और उसने अपनी खुशी को व्यक्त किया है. बंगारू लक्ष्मण से लेकर कोविंद के राष्ट्रपति बनने तक बीजेपी ने दलितों को खुश करने की पूरी कोशिश की. हालांकि रोहित वेमुला, ऊना घटना और फरीदाबाद घटना के बाद जनरल वीके सिंह का बयान बीजेपी के दोहरे चेहरे को उजागर करते हैं. भीड़ की ओर से दलितों की हत्या समेत कई घटनाएं बीजेपी के वोटबैंक की राजनीति के पुलिंदा को खोलते हैं.

      Back