27/07/2017  केजरीवाल ने न्यायिक प्रक्रिया का अपमान किया - मनोज तिवारी
नई दिल्ली,  दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने न्यायिक प्रक्रिया का अपमान किया है ।भारतीय जनता पार्टी हमेशा से यह आरोप लगाती रही है कि केजरीवाल का संविधान में विश्वास नहीं है और दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा लगाया 10000 का जुर्माना इसका प्रमाण है। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने कहा दिल्ली के इतिहास में यह पहली बार हो रहा है, जब किसी मुख्यमंत्री को संवैधानिक संस्थाएं बार-बार आगाह कर रही है और वह बार-बार संविधान का उल्लंघन कर रहे हैं। केजरीवाल ऐसी सरकार के मुखिया हैं जिसका ना तो संविधान में भरोसा है और न ही संवैधानिक संस्थाओं में। श्री तिवारी ने कहा कि केजरीवाल के शासन में जंगल राज की बू रही है संविधान की रक्षा की कसम खाकर मुख्यमंत्री बने, केजरीवाल हर रोज संविधान की धज्जियां उड़ा रहे हैं। यह न सिर्फ संविधान का अपमान है बल्कि उस जनादेश का घोर अपमान है जो उन्हें दिल्ली की जनता ने दिया है। अपनी घृणित हरकतों से बार-बार जनता का भरोसा तोड़ने वाले केजरीवाल ने निर्लज्जता की सारी हदें पार कर दी हैं।  श्री तिवारी ने कहा कि कानून से केजरीवाल का और केजरीवाल से जनता का भरोसा उठ गया है क्योंकि जिस संविधान के तहत उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी उसी संविधान ने केजरीवाल पर संविधान विरोधी होने की मोहर लगा दी है।
Copyright @ 2017.