02/01/2018  दिल्ली पुलिस का सराहनीय काम : 12 दिन के मासुम को मिलवाया माता पिता से
कंचन नेगी
दिल्ली के जहांगीर पुरी में इंसानियत और रिश्तों का कत्ल करने वाली एक घटना को अंजाम दिया गया जहां  अगवा हुए केवल 12 दिन के मासूम को दिल्ली पुलिस ने खोज निकाला । नवजात को अगवा करने में उसके अपने ही करीबी शामिल थे । 12 दिसम्बर को जहांगीर पुलिस थाने में नवजात बच्चे के गायब होने की रिपोर्ट लिखवाई गई , जहां बच्चे के माता पिता ने बताया वह अपने घर में बच्चे का नामकरण के बाद बच्चे के मामा मामी सहित  सो रहे थे वहीं जब वह सुबह सोकर उठे तो बच्चा गायब था । डीसीपी नार्थ असलम खान ने बताया पुलिस ने मामले को गभींरता से लेते हुए टीम का गठन किया जिसमें एसीपी राकेश त्यागी , एसएचओ आरती शर्मा, इंस्पेक्टर अनिल मलिक व हैड कॉन्सटेबल विक्रांत के साथ कॉन्सटेबल सोमवाीर ने बहुत गंभीरता से पूरी छानबीन करी । तफ्तीश में पुलिस ने आसपास मोहल्ले से लेकर सभी रिश्तेदारों से भी पूछताछ करी जहां पुलिस को बच्चे की मामी  पर शक हुआ । पुलिस ने सईद नगर यूपी और बिजनौर मेें भी अपनी टीम को भेज छानबीन करी  । पुलिस ने संदेह और सबूतो ं के आधार पर आरोपियों को सईद नगर और शास्त्री पार्क दिल्ली से गिरफ्तार कर बच्चे को सुरक्षित तरीके से उसके माता पिता तक पहुंचाया । पूछताछ पर पता चला कि आरोपी फिरदौस ( बदला हुआ नाम य) 28 वर्ष जोकि बच्चे की मामी है  उसके कोई संतान नहीं थी इसलिए उसने एक दूसरी महिला सोफिया ( बदला हुआ नाम ) 22 वर्ष  के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया । रात में घर के सभी सदस्यों को बेहोशी की दवा खिलाने के बाद बच्चे को अगवा किया गया । वहीं किसी को शक न हो आरोपी खुद वहीं रुकी रही और हमदर्दी का नाटक भी किया । लेकिन लगातार 20 दिन के मेहनत के बाद पुलिस ने नवजात को उसके मां बाप तक पहुंचाया । 
Copyright @ 2017.