04/01/2018  
आधार की सुरक्षा पर सवाल: महज 500 रुपये और 10 मिनट में मिली करोड़ों कार्ड की जानकारी !
 
 

नई दिल्ली । पिछले साल नवंबर में ही आधार बनाने वाली अथॉरिटी यूआईडीएआई ने भरोसा दिलवाया था कि, 'आधार डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है और यह डाटा किसी भी तरह से लीक नहीं हो सकता है।' लेकिन एक अंग्रेजी अखबार द्वारा की गई तहकीकात में यह खुलासा हुआ है कि आपके आधार कार्ड की जानकारी बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। इस तहकीकात में पता चला है कि आप मात्र 500 रुपये देकर केवल 10 मिनट के अंदर करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी हासिल कर सकते हैं। अंग्रेजी अखबार ने एक तहकीकात की जिसमें उन्होंने एक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से मात्र 500 रुपये में यह सर्विस खरीदी और करीब हर भारतीय के आधार कार्ड का एक्सेस मिल गया। दरअसल अखबार की तहकीकात में एक एजेंट के बारे में पता लगा जिसने अपना परिचय अनिल कुमार के रूप में दिया और उसने एक एक्सेस पोर्टल बनाने को कहा। अनिल ने नाम, ई-मेल और मोबाइल नंबर मांगा जिसके बाद उसने एक नंबर दिया जिस पर पेटीएम के माध्यम से 500 रुपए ट्रांसफर करने को कहा। पैसे मिलने के बाद एजेंट ने मात्र 10 मिनट में एक गेटवे दिया और लॉग-इन पासवर्ड दिया। उसके बाद उन्हें सिर्फ आधार कार्ड का नंबर डालना था और सी भी व्यक्ति के बारे निजी जानकारी आसानी से मिल गई। इसके बाद सुनील कुमार से इन आधार कार्ड का प्रिंट करवाने के लिए बोला गया तो उसने पेटीएम के माध्यम से फिर से 300 रुपये लिए और फिर रिमोट से 'टीम व्यूवर' के माध्यम से एक तहकीकात करने वाली रिपोर्टर के कंप्यूटर में एक सॉफ्टवेयर इंस्टाल किया और जैसे ही काम खत्म हुआ तो उसने तुरंत सॉफ्टवेयर डिलीट कर दिया। 
इस बारे में जानकारी होने पर यूआईडीएआई अधिकारियों ने तुंरत ही मामले पर संज्ञान लेते हुए बेंगलुरु में टेक्निक्ल टीम को इससे अवगत कराया। चंडीगढ़ में यूआईडीएआई की रिजनल एडशिनल डॉयरेक्टर-जनरल, संजय जिंदल ने बताया कि अगर ये सही है तो काफी चौंकाने वाला है क्योंकि डॉयरेक्टर-जनरल और मेरे अलावा किसी और के पास लॉग-इन पासवर्ड नहीं होना चाहिए।

      Back
 
Copyright @ 2017.