10/02/2018  डाक टिकट के माध्यम से शिक्षित करने की अनोखी पहल

 नई दिल्ली । 195 देश, 30 हजार डाक टिकट और बच्चों को इनके प्रति जागृत करते 76 वर्षीय जवाहर इसरानी अब अपनी इस अनोखी पहल को पंख लगा चुके है । स्टील अथारिटी से सेवानिवृत ने जब सोचा कि डाक टिकट भी सामान्य ज्ञान बढ़ा सकते हैं और इन पर अकिंत चिंह और तस्वीर कुछ खास जानकारी दे सकती हैं तो उन्होनें अपनी इस सोच को आगे बढाया और स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया के माल गोदाम में एक दिन की डाक टिकट की प्रदर्शनी लगवाई  जिसमें उन्होनें अलग अलग थीमों जैसे जानवर, पेटिंग, झंडे, ऐतिहासिक इमारतें, पेड़ पौधे, राष्ट्राध्यक्ष, स्वतंत्रता सेनानी वाले टिकटों के अलावा अलग अलग देशों के लगभग दो हजार डाक टिकटों का प्रदर्शनी किया । यह प्रदर्शनी इतनी सराही गई कि अब तक इसे कई शहरों के 175 स्कूलों में भी लगाया गया । इसरानी जी ने बताया इस तरह की चाजों को देखने के बाद बच्चों के मन में उत्सुकता बढ़ती हैं बाद में बच्चें उसे जानने के लिए इंटरनेट पर उसका गहन अध्ययन भी करते हैं वहीं इस प्रकार के अध्ययन से बच्चों की जानकारी बढ़ती हैं । इससे सामान्य ज्ञान तो बढ़ता है तथा दूसरे देशों की भूगोल, संस्कृति तथा वहां के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देते हैं , इसरानी जी के इस शौक ने उन्हें बूढे होने के बाद भी एक्टिव बनाए रखा है । जवाहर इसरानी इस समय जर्मनी की कंपनी में निरीक्षण अभियंता के पद पर कार्यरत हैं । उन्होनें बताया कि डाक टिकटों की संग्रहण की प्रेरणा उन्हें अपने एक अध्यापक डॉ. मोतीलाल जोतवानी से मिली थी , तभी से उन्होनें भी कक्षा पांच से टिकटों का संग्रह शुरु कर दिया इसी कारण उनके पास 195 देशों के तीस हजार से भी अधिक डाक टिकट हैं । आज हमारे देश में तकनीकी सेवाओं के बढ़ने से डाक सेवा व डाक टिकट का प्रचलन बहुत कम हो गया हैं यहां तक कि आज की युवा पीढी व छोटे बच्चों को तो इसके बारे में कुछ ज्ञान भी नहीं हैं क्योकिं यह सब अब उनकी कक्षा पुस्तिकाओं के ज्ञान तक सीमित रह गया है । डाक टिकट चिपकने वाले कागज से बना एक साक्ष्य है जो यह दर्शाता है किडाक सेवाओं के शुल्क का भुगतान हो चुका है। आम तौर पर यह एक छोटा आयताकार कागज का टुकड़ा होता है जो एक लिफाफे पर चिपका रहता हैयह यह दर्शाता है कि प्रेषक ने प्राप्तकर्ता को सुपुर्दगी के लिए डाक सेवाओं का पूरी तरह से या आंशिक रूप से भुगतान किया है। डाक टिकटडाक भुगतान करने का सबसे लोकप्रिय तरीका

डाक टिकट संग्रह रूचिडाक टिकटों के संग्रह और इसके अध्‍ययन से जुड़ी है। इसमें संग्रह और शोध भी शामिल है। डाक टिकट संग्रह के अंतर्गत डाक टिकटों को ढूढंनाचिन्ह्ति करनाप्राप्‍त करनासूचीबद्ध करना,प्रदर्शन करनासंग्रह करना आदि कार्य शामिल हैं। डाक टिकट संग्रह की रूचि को सभी रूचियों का राजा कहा जाता है। डाक टिकट संग्रह करने के शौकीन बच्चों को प्रोत्साहित कर इस शौक के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करना उनमें से एक है।

कंचन नेगी
Copyright @ 2017.