22/02/2018  दिल्ली मेट्रो में सीआईएसएफ की सफलताएं
दिल्ली मेट्रो जो कि दिल्ली के लोगों के लिए यात्रा का सबसे सुरक्षित और तेज माने जाने वाला साधन है...इसमें सबसे बड़ा योगदान सीआईएसएफ  टीम का होता है जो कि प्रत्येक नागरिक पर अपनी निगाहें रखती है... मेट्रो में सीआईएसएफ कमांडो अखिलेश कुमार शुक्ला जी से समाचार वार्ता के संवाददाता ने बात की और एक रिपोर्ट जानी की 2016 की तुलना में 2017 में सफर को सुरक्षित बनाने में मेट्रो सीआईएसएफ की क्या भूमिका रही..आंकड़ों के अनुसार "ऑपरेशन काली" जिसमे महिला कोच में  पुरुष के यात्रा करने पर जुर्माने का प्रावधान है 2017 में काली ऑपरेशन के दौरान 2081 जुर्माने किए गए वहीं 2016 में कुल 4104 जुर्माने हुए थे...रिपोर्ट के अनुसार लोगों में जागरूकता बढ़ी है और अब महिला कोच में पुरुष के सवार होने की घटनाओं में कमी आई है.. वहीं अगर दिल्ली मेट्रो में होने वाली कुल घटनाओं की बात करें तो मेट्रो में 2017 में 72 घटनाएं हुई .. जिसमें 18 लोगों की मृत्यु हो गयी एवं 11 लोगों की जान सीआईएसएफ द्वारा बचाई गई वही मेट्रो पर ही मौजूद अन्य लोगों द्वारा भी 12 लोगो की जान बचाई गयी...वही 33 लोगों को उपचार के लिए अस्पताल भी भर्ती कराया गया... रिपोर्ट के अनुसार मेट्रो में जेब कटने का डर भी लोगों में बड़ा है जिसमें महिलाओं की संख्या अधिक है.. वही 2016 की तुलना में 2017 में मेट्रो में अधिक लगभग 255 महिला सवारियों की मदद की गई.. और उपचार दिया गया इसी प्रकार दिल्ली मेट्रो की चाइल्ड हेल्पलाइन के द्वारा भी लगभग 158 गुमशुदा बच्चों को उनके अभिभावकों को सौंपा गया..वही सीआईएसएफ कमांडो फ़ॉर ऑपरेशन ने यह भी बताया कि अगर मेट्रो में किसी भी व्यक्ति का सामान छूट जाता है तो वह 1 घंटे के भीतर ही उसी स्टेशन पर जाकर अपना सामान प्राप्त कर सकते हैं...अन्यथा अधिक समय बीत जाने पर उनका सामान कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर पहुंचा दिया जाता है.. वहां सामान रखने की व्यवस्था की गई है जहां से वह अपना छुटा हुआ सामान प्राप्त कर सकते हैं...
अनमोल कुमार की रिपोर्ट समाचारवार्ता दिल्ली
Copyright @ 2017.