09/03/2018  अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को साफ-सफाई और सैनेटरी नैपकिन सेसशक्त बनाने की पहल

कमजोर वर्ग की महिलाओं को स्वास्थ्य में सशक्तबनाने के लिए किफायती सैनेटरी    नैपकिन का होगा वितरण

नई दिल्ली, 9 मार्च, 2018: महिलाओं को समाज मेंलिंगभेद के साथ साथ जैविक संरचना के कारण साफ सफाई के मोर्चे पर भी जूझना पड़ता है इसी को ध्यान मेंरखते हुए अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर नेशनलइंस्टीट्यूट ऑफ जेंडर जस्टिस ने निर्भोय ग्राम के सहयोगसे समाज के कमजोर तबके की महिलाओं को सेहत केमोर्चे पर सशक्त बनाने के लिए उनके बीच सैनेटरीनैपकिन का वितरण किया यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना ‘बेटी बचाओबेटी पढ़ाओ’ का ही हिस्सा है जिसमें मशहूर लेखिका तसलीमा नसरीन,राजनीतिज्ञ श्याम जाजूपेंटर मोहसिन शेखक्रिएटिवनिर्देशक पिनाकी दासगुप्ताकलाकार दीपक कुमार घोषजैसी कई हस्तियों ने शिरकत की।

बिइंग फीयरलेस’ यानी निर्भय रहने की मुहिम के तहतमहिलाओं को मासिक धर्म के दिनों में स्वास्थ्य और साफ सफाई के प्रति जागरूक बनाने की पहल की गई।मासिक धर्म के दिनों में कमजोर वर्ग की महिलाओं केबीच सैनेटरी नैपकिन की अनुपलब्धता कई कारणों सेसरकार और विभिन्न सामाजिक संगठनों के लिए एकगंभीर चुनौती बनी हुई है इसी चुनौती से निपटने के लिएनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ जेंडर जस्टिस ने एचएलएललाइफकेयर के साथ भागीदारी करते हुए लाइफकेयरकेंद्र स्थापित करने की घोषणा की है। इस भागीदारी केतहत देश के सबसे पिछड़े 100 जिलों में घर-घर जाकरकिफायती सैनेटरी नैपकिन वितरित किए जाएंगे महिला समाजसेवी श्रीरूपा मित्रा चैधरी के संरक्षण औरनिर्देशन में इस मुहिम का मकसद देश के हर कोने मेंजाकर ग्रामीण महिलाओं को सहयोग करना

Copyright @ 2017.