04/05/2018  मजदूर दिवस पर दुनिया के तमाम मेहनतकश लोगों को सलाम:- संजीव जैन-
खून पसीने की वाजिब कीमत जब मेहनतकश को मिल जायेगी। 
सत्ता  सरमायें  की   इस दुनिया में   सब  बुनियादें हिल जायेगी। 

बुद्धी ने   नक्शे खींचे पर  मेहनत  ने   उन्हे आकार दिया। 
मानव मन ने   सपने देखे  मेहनत ने   उन्हे साकार किया। 
बिन जीवट के  प्रतिज्ञा के क्या दुनिया में कुछ सम्भव है। 
लेकिन बुद्धी ने मेहनत से हर दम सौतेला व्यवहार किया। 

सद् बुद्धी और मेहनत को जब वाजिव इज्जत मिल जायेगी। 
खूनी  संधर्षो   से  मुक्ति  पा   दुनिया  जन्नत  बन   जायेगी। 

ये सच है  मानव बुद्धी ने  ज्ञान का   अन्नत प्रकाश दिया। 
लेकिन मानव की मेहनत ने ही जीवन को विश्वास दिया। 
मस्तिष्क  की  उत्तम  उर्जा  की  दुनिया  अपनी महता है। 
लेकिन  मानव के  हाथो  ने उस उर्जा को  उल्लास दिया। 

कुलटा  बुद्धी  की शातिर  डायन जब जेलों में डाली जायेंगी। 
चप्पा चप्पा  गुलशन गुलशन  डाली  डाली   खिल  जायेगी।
Copyright @ 2017.