अपराध (02/11/2018) 
दिल्ली क्राइम ब्रांच ने सुलझायी वजीराबाद में एक परिवार की हत्या की गुत्थी,मुख्य आरोपी को पकड़ा!
नई दिल्ली,(अनमोल कुमार)- वजीराबाद इलाके में 15 जुलाई, 2016 को एक ही दिन में एक परिवार के 4 लोगों वेदप्रकाश उसकी पत्नी साधना, बेटा शुभम और बेटी नैना का मर्डर कर दिया गया था.. हत्याएं एक दिन दिन में एक-एक कर की गईं थीं।कातिल ने कार में अगली सीट पर बिठाकर पीछे से क्लच के तार से सभी का गला घोंट दिया था। इसके बाद शव को सेंट्रो कार में डालकर  गंगनहर, हापुड़ में फेंक दिए गए थे..यूपी पुलिस को इस नहर से एक युवती (नैना) का शव बरामद हुआ था..इस मामले में पुलिस ने अब 2 साल बाद एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, आरोपी की पहचान वजीराबाद गांव निवासी अभिषेक पाल उर्फ मिंटू 26 वर्ष के तौर पर हुई है..पकड़े गए आरोपी ने खुलासा किया की वह बिजनेसमैन वेदप्रकाश के परिवार को वारदात के एक वर्ष पहले से जानता था..वेदप्रकाश की कश्मीरी गेट के पास मजनूं के टीले में कपड़ों की दुकान थी, दुकान पर उसका दोस्त रितेश कटियार काम करता था।रितेश ने वेदप्रकाश से अगस्त, 2015 में 4 लाख रुपए कर्ज लिया,गारंटर अभिषेक पाल बना था.. वेदप्रकाश, अभिषेक और रितेश पर पेमेंट का दबाव बना रहा था।अभिषेक ने परेशान होकर बात अपने दोस्त सोनू से बतायी... सोनू, वेदप्रकाश का भतीजा है उसकी चाचा से पुरानी दुश्मनी थी। सोनू को अंकल की प्रॉपर्टी-बिजनेस पर कब्जा करने का रास्ता मिल गया। उसने वेदप्रकाश के परिवार को मारकर अभिषेक को हिस्सा देने की बात कही...आरोपी ने यह भी बताया कि वह पूरे परिवार को नही मारना चाहता था परन्तु जब वह वेदप्रकाश को गाड़ी में लेकर जा रहे थे तो उसके बेटे ने देख लिया था तब डर से बेटे को मारने का प्लान बनाया गया इसी के चलते जब बेटे को ले गए तो उसकी माँ ने  देखा तो माँ को भी बेटे के एक्सीडेंट की खबर देकर उसकी भी हत्या की ओर इसी प्रकार बेटी की भी हत्या की...क्राइम ब्रांच के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त डॉ. अजीत कुमार सिंगला ने बताया इंस्पेक्टर सुनील जैन की टीम को इस वारदात के मुख्य आरोपी अभिषेक पाल के बारे में सूचना मिली थी.. शनिवार रात उसे आउटर रिंग रोड संजय अखाड़ा के नजदीक से पकड़ा गया.. आरोपी पेशे से कांट्रेक्टर है..और पुलिस आगे की तफ्तीश में जुटी हुई है...

अधिक जानकारी के लिए लिंक को खोले..
https://youtu.be/YS9Tsv_TiDQ

Copyright @ 2019.