राष्ट्रीय (15/05/2019) 
छेड़-छाड़ की घटना को रोकने पर हुई हत्या पर केजरीवाल मौन क्यों - गोयल
नई दिल्ली। मोतीनगर के बसई दारापुर में शनिवार रात को बेटी से छेड-छाड़ करने वाले युवक व उसके परिवार द्वारा पीड़ित लड़की के पिता की निर्मम हत्या की घटना पर यूनाईटेड हिन्दू फ्रंट ने गहरी चिंता जताई है और मृतक ध्रुव त्यागी के पिता श्री वेद प्रकाश त्यागी से उनके घर पर मुलाकात कर पीड़ित परिवार को एक करोड़ का मुआवजा व आश्रितों को सरकारी नौकरी दिए जाने की मांग दिल्ली सरकार से की है।
फ्रंट द्वारा जारी एक प्रेस वक्तव्य में फ्रंट के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष एवं वरिष्ठ भाजपा नेता जय भगवान गोयल ने कहा कि कितने शर्म की बात है कि राजधानी में छेडछाड़ के बाद पीड़ित लडकी के पिता की सरेआम लोगों के सामने हत्या कर दी जाती है और लड़की के भाई को अधमरा कर दिया जाता है, इसके बावजूद भी दिल्ली सरकार का कोई भी नुमाइन्दा पीड़ित परिवार से मिलने तक नहीं जाता। उन्होंने कहा कि क्या पीड़ित परिवार का दोष यह है कि वह हिन्दू है इसलिए दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल चुप बैठे हैं। उन्होनें कहा कि हद तो तब हो गई जब निष्पक्षता का स्वांग रचने वाले तमाम मीडियां घराने इस घटना में पीड़ित और कातिल दोनों का ही असली नाम लिखने में भी संकोच कर रहे हैं। जबकि यहीं घटना अगर हमलावर समुदाय के साथ घटित होती तो यहीं मीडिया उनके नाम व समुदाय के साथ खबरें प्रकाशित करता। 
गोयल ने कहा कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी मॉबलीचिग की बड़ी-बड़ी बातों को करने वाले गैंग का एक सदस्य भी बाहर नहीं निकला और न ही इसकी निंदा की। उन्होंने कहा कि यह वही दिल्ली है जब एक समुदाय विशेष पर जब कोई छोटी से छोटी वारदात हो जाती है तब यहां के मुख्य मंत्री खुद दौडे़-दौड़े चले जाते हैं और पीड़ित परिवार को करोड़ों की मदद की घोषणा करते है मगर जब एक हिन्दू परिवार के साथ मुख्य मंत्री के चहेते समुदाय द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया तो मुख्य मंत्री के मुंह से संवेदना के दो शब्द भी नहीं निकले। उन्होंने कहा कि राजधानी में केजरीवाल द्वारा साम्प्रदायिकता भड़काने का नंगा नाच खेला जा रहा है और हमें पूरी आशंका है कि हत्यारों को केजरीवाल सरकार की ही शह मिली हुई है।
दिल्ली सरकार से मांग करते हुए गोयल ने कहा कि मुख्यमंत्री भेदभाव की राजनीति बंद कर तत्काल ही पीड़ित परिवार को एक करोड़ की आर्थिक मदद उपलब्ध करवाकर मृतक के आश्रितों को सरकारी नौकरी की घोषणा करें और इसके लिए सभी दोषियों पर तत्काल कड़ी कार्यवाही की जाएं जिससे की ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो सके। इस मौके पर फ्रंट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चन्द्र प्रकाश कौशिक, दिल्ली प्रभारी चौ. ईश्वर पाल सिंह तैवतिया, दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष धर्मेन्द्र बेदी भी मौजूद थे।
Copyright @ 2019.