राष्ट्रीय (25/05/2019) 
भगवान परशुराम भक्ति व शक्ति का अनुठा संगम है।
भिवानी, 25 मई। भगवान परशुराम भक्ति व शक्ति का अनुठा संगम है। परशुराम का नाम जहन में आते ही धर्म की रक्षा के प्रति समर्पण का जो भाव उमड़ता है वह अपने आप में शक्ति का परिचायक है। ये बात हरियाणा कांग्रेस के पूर्व प्रवक्ता अशोक बुवानीवाला ने समीपी गांव हालुवास में भगवान परशुराम सेवा समिति द्वारा आयोजित भगवान परशुराम जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह में कही। बाबा बालकनाथ आश्रम के महतं श्यामनाथ व जोगीवाला मंदिर के महंत वेदनाथ जी के सान्निध्य में आयोजित इस समारोह में हवन, भंडारा एवं सत्संग का आयोजन भी किया गया। बुवानीवाला ने कहा कि भगवान परशुराम के नाम में परशु प्रतीक है पराक्रम का व राम प्रतीक है सत्य सनातन का। ये दोनों ही शब्द उसके अर्थ को भी सार्थक करते हैं। उन्होंने कहा कि धरती पर जब भी अत्याचार बढ़ा और सनातन धर्म की रक्षा की जरूरत पड़ी तब भगवान परशुराम ने सत्य व भक्ति के रास्ते पर चलते हुए अत्याचार का नाश किया। कांग्रेस नेता ने कहा कि ये पहला अवसर है कि भगवान परशुराम की जयंती पर सर्व समाज के प्रतिनिधियों को अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। भगवान परशुराम केवल ब्राह्मण समाज के महापुरूष नहीं थे अपितु सम्पूर्ण विश्व के पुज्य पुरूष है। बुवानीवाला ने कहा कि सर्व समाज को ऐसे महापुरूषों की जयंती में न केवल सम्मिलित होना चाहिए बल्कि उसे जाति-पाति से उपर उठकर सभी को मिलकर मनाना चाहिए। आज इस अवसर पर मुख्य अतिथि बीडीसी के चेयरमैन नरेन्द्र शर्मा तिगड़ाना ने भी भगवान परशुराम को अपनी पुष्पांजली अर्पित की। समारोह में राजेश थुरानिया व पार्टी के कलाकारों ने उपस्थितियों से समा बांध दिया। समारोह में जिला पार्षद मनोज यादव, बीडीसी सदस्य दिनेश शर्मा, कमांडर सुनील शर्मा, प्रहलादगढ़ के सरपंच विनोद यादव, हालुवास के सरपंच संदीप तंवर, हालुवास माजरा के सरपंच हरिश कुमार, धीराणा के सरपंच रामभगत शर्मा, पंजाबी नेता बिशम्बर अरोड़ा, आदर्श ब्राह्मण महासभा के प्रधान प्रेम शर्मा धनानीया, डीपीओ भगीरथ शर्मा, चौगामा के अध्यक्ष राम किशन हालुवासिया, भानू प्रकाश शर्मा, बृजु शर्मा, बिल्लु शर्मा, सत्यनारायण शर्मा, हरिश शर्मा, अशोक कुमार, मुकेश चोटिवाला, पंडित औमप्रकाश, पंडित चंदगीराम, पुजारी कंवरपाल देवसर, मांगेराम शर्मा, कुलदीप शर्मा एड़वोकेट, कांति कौशिक, मन्नू पहलवान, भारत भूषण कौशिक अजीतपुर के अलावा काफी संख्या में विशिष्ट लोग उपस्थित थे।
Copyright @ 2019.