राष्ट्रीय (30/05/2019) 
हम दिल्ली सरकार से यह मांग करते हंै कि दिल्ली के नागरिकों की सुरक्षा को लेकर आग से निपटान के लिए जल्द से जल्द कोई एक्शन प्लान बनाये ताकि भविष्य में जनकपुरी छात्रावास में हुई घटना को दोबारा होने से रोका जा सके-मनोज तिवारी

नई दिल्ली, 30 मई। पश्चिमी दिल्ली के जनकपुरी मेट्रो स्टेशन के नजदीक स्थित लड़कियों के एक छात्रावास में भीषण आग लग गई, जिसके बाद 50 लड़कियों को वहां से सुरक्षित निकाल लिया गया। इस पूरे घटनाक्रम में दिल्ली सरकार और दमकल विभाग की लापरवाही साफ तौर पर नजर आयी इस पर प्रतिक्रिया देते हुये भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने कहा कि यह घटना बेहद दुखद है और मैं पीड़ित छात्राओं की पीड़ा को समझते हुये दिल्ली सरकार से यह प्रश्न पूछना चाहता हूँ कि इसी तरह की घटना के होने का क्या दिल्ली सरकार इंतजार कर रही थी ? क्या दिल्ली सरकार को आग लगने की अवस्था से बचने के लिए कोई मानक तय नहीं करने चाहिए थे ? क्या दिल्ली सरकार ने इस बात पर गम्भीरता दिखाते हुये कोई मीटिंग या ऐजेण्डा नहीं बनाना चाहिए था ? क्यों नहीं दिल्ली सरकार ने आग से निपटने के लिए कोई ठोस नीति नहीं बनाई ?

     तिवारी ने कहा कि आग लगने की यह घटना कोई नयी नहीं है इससे पहले भी 23 मई को नेहरू प्लेस की एक बिल्डिंग में आग लगी थी। 28 मई को पीरागढ़ी के बल्ब फैक्ट्री में आग लगी, 14 फरवरी 2019 को ही नारायणा स्थित आर्चिज की फैक्ट्री में भंयकर आग लगी थी। इसी प्रकार दिल्ली में करोलबाग इलाके के होटल अर्पित पैलेस में भीषण आग लग गई थी, जिसमें एक महिला और एक बच्चे समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। सवाल यह उठता है कि जब आग लगने की इतनी सारी घटनाएं सिलसिलेवार तरीके से हो रही है तो क्यों नहीं दिल्ली सरकार इसको लेकर कोई नीति बनाती है ?


     तिवारी ने कहा हम दिल्ली सरकार से यह मांग करते हंै कि दिल्ली के नागरिकों की सुरक्षा को लेकर आग से निपटान के लिए जल्द से जल्द कोई एक्शन प्लान बनाये ताकि भविष्य में जनकपुरी छात्रावास में हुई घटना को दोबारा होने से रोका जा सके। 

Copyright @ 2019.