राष्ट्रीय (03/06/2019) 
दिल्ली के घोषणा मंत्री ने दिल्ली के लोगों से एक और झूठी घोषणा की है, यह वो लोग है जिनके ऊपर नाकामपंथी का ठप्पा लगा हुआ है- मनोज तिवारी

नई दिल्ली, 3 जून।  भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने आज प्रदेश कार्यलय पर दिल्ली के मुख्यमंत्री द्वारा मेट्रो व डीटीसी की बसों में महिलाओं के लिए की जा रही मुफ्त सफर की घोषणा का पर्दाफाश करने को लेकर प्रेस वार्ता की। इस अवसर पर पूर्वाचल मोर्चा के अध्यक्ष  मनीष सिंह, प्रदेश मीडिया प्रभारी  प्रत्युश कंठ, सह-प्रभारी  नीलकांत बक्शी, मीडिया प्रमुख  अशोक गोयल देवराहा एवं प्रवक्ता  हरीश खुराना उपस्थित थे।

    पत्रकारों को सम्बोधित करते हुये दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली के घोषणा मंत्री ने दिल्ली के लोगों से एक और झूठी घोषणा की है। यह वो लोग है जिनके ऊपर नाकामपंथी का ठप्पा लगा हुआ है। सत्ता में आते ही इस घोषणा मंत्री ने 70 वायदे किया और दिल्ली को नम्बर एक बनाने का सपना दिल्ली के लोगों को दिखाया लेकिन विकास के मॉडल पर तो नम्बर एक दिल्ली को बना नहीं पाये हां प्रदूषण में दिल्ली को नम्बर एक जरूर बना दिया है। घोषणा मंत्री ने लोकलुभावन अनेक झूठी घोषणाएं दिल्ली के लोगों के लिए की लेकिन उसमें से किसी भी घोषणा को पूरा नहीं किया, जब पूरा करने का समय आया तो फिर एक नई घोषणा कर दी। 52 महीने दिल्ली सरकार के बीत जाने के बात बचे हुये 8 महीनों में अचानक इन्हें दिल्ली की सत्ता से अपनी जमीन खिसकते हुये नजर आ रही है क्योंकि दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों पर मिली करारी हार के बाद इन्हें समझ आया है कि दिल्ली के लोग सिर्फ काम के आधार पर वोट देते है और जो काम नहीं करते उन्हें नकार देते है।

     तिवारी ने कहा कि दिल्ली की सत्ता में बैठे इन्हीं नाकामपंथियों ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के सवर्णों का 10 प्रतिशत आरक्षण दिल्ली में रोक दिया था लेकिन लोकसभा चुनाव में जब जनता का जोरदार तमाचा हार के रूप में लगा तब उसे जल्द से जल्द दिल्ली में लागू किया गया। अब एक नई घोषणा कर केजरीवाल सरकार कह रही है कि दिल्ली की बसों में और मेट्रों में महिलाओं को मुफ्त सफर कराया जायेगा, विचार में तो कोई दिक्कत नहीं है लेकिन इस योजना को अमलीजामा पहनाने से पहले दिल्ली सरकार की कुछ सच्चाई जानने की जरूरत है। दिल्ली की लगभग 2 करोड़ की कुल जनसंख्या में 1 करोड़ के लगभग महिलाएं है। खाली महिलाओं की बाते करें तो कम से कम 20,000 बसें चाहिए होगीं जबकि हालत ये है दिल्ली सरकार के बेड़े में पहले 5500 बसें थीं जो अब मात्र 3800 ही बची है। इन 3800 बसों में भी सभी महिलाओं की सुरक्षा के कोई इन्तजाम नहीं है। 52 महीनों के दिल्ली सरकार के कार्यकाल में सीसीटीवी, वाईफाई , महिला सुरक्षा के लिए बसों में पैनिक बटन, बसों में मार्शल और नई बसें तो केजरीवाल सरकार उपल्बध नहीं करा पायी बल्कि पुरानी बसों को भी दिल्ली की सड़कों से नदारद पाया गया।

     तिवारी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों सीटों पर अपनी विजय का दम भरने वाली आम आदमी पार्टी का दिल्ली में तीसरें नम्बर पर आ जाने के कारण केजरीवाल अपना मानसिक संतुलन खो बैठे है। हार तो हार होती है लेकिन हार जाने के बाद केजरीवाल ने बड़ी सरलता से कह दिया कि वो तो बड़े चुनाव थे। दिल्ली की जनता केवल विकास चाहती है आपके मोहल्ला क्लीनिक में पशु रहते है, सीसीटीवी दिल्ली में आप वादा करके नहीं लगाये, वाईफाई के नाम पर दिल्ली के लोगों को ठग्गा, नये 500 स्कूल बनाने का वादा कर केवल कमरे बना कर छोड़ दिये आम आदमी पार्टी की सरकार ने, बीते साढ़े चार वर्षों में केजरीवाल सरकार ने घोषणाएं करी लेकिन उसको पूरा करने में वो पूरी तरह से नाकाम साबित हुये है। मैं दिल्ली के लोगों से झूठी घोषणाओं से बचने की अपील  करता हूँ यह इनकी वोट खरीदने की एक और नाकाम कोशिश है।
 
     तिवारी ने कहा कि दिल्ली की अनाधिकृत कॉलोनी, साफ पानी, नालों की सफाई, यमुना का जलस्तर, हर घर जल कैसे पहुंचाया जाये इस पर दिल्ली सरकार कोई बात नहीं कर रही है लेकिन नयी घोषणा दिल्ली के लिए फिर से की जा रही है। एक पांच साल नाकामपंथियों से हटाकर भाजपा को देने की जरूरत है। 5 साल पहले केन्द्र में मोदी सरकार लोगों की आस बनकर आयी और विश्वास बन गयी लेकिन केजरीवाल सरकार दिल्ली के लिए अभिशाप बन गये है। केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों को अभी भी केन्द्र की दो योजनाओं के लाभ से वंचित रखा है एक है आयुष्मान भारत तो दूसरा है प्रधानमंत्री आवास योजना जिसे जल्द से जल्द दिल्ली में लागू करने की हम मांग करते है। अगर केजरीवाल आयुष्मान भारत योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना को लागू नहीं करते हैं तो 8 माह बाद दिल्ली में भाजपा की सरकार आने के बाद हम उसे स्वयं लागू कर देंगे। जब मेट्रो का किराया बढ़ा तो केजरीवाल की स्वीकृती से बढ़ा और अब 8 महीने बाद चुनाव है और अब यह फिर से घोषणा मंत्री बन गये है, जैसे लोकसभा चुनाव से पहले केजरीवाल ने बधाई दिल्ली के नाम से, बधाई देवली, बधाई करावल नगर, बधाई बदरपुर इत्यादि पर केवल झूठा प्रचार किया लेकिन दिल्ली में कहीं पर जमीनी स्तर पर कोई काम नहीं हुआ वैसी ही एक नाकाम कोशिश वो दिल्ली में महिलाओं को मुफ्त सफर कराने की बात कहकर कर रहे है।

Copyright @ 2019.