राष्ट्रीय (05/08/2019) 
नाग पंचमी पूरे 125 सालों बाद सावन के तीसरे सोमवार
इस बार नाग पंचमी पूरे 125 सालों बाद सावन के तीसरे सोमवार (पांच अगस्त) के दिन पड़ रही है ,जिसके कारण इस पर्व का फल दोगुना हो जाएगा। सोमवार और नागपंचमी दोनों ही दिन भगवान शिव की आराधना की जाती है। इसलिए इस बार नागपंचमी का विशेष महत्व होगा। 

नागपंचमी के दिन चंद्र प्रधान हस्त नक्षत्र और त्रियोग का संयोग भी बन रहा है। सर्वार्थ सिद्धि योग, सिद्धि योग और रवि योग यानी त्रियोग के संयोग में काल सर्प दोष निवारण के लिए पूजा करना फलदायी होता है।

सावन शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागदेव के पूजन करने की परंपरा है। इसलिये अगर आप भी शिव जी के साथ साथ नाग देवता की भी कृपा पाना चाहते हैं तो इस शुभ मुहूर्त में दूध का दान करे और  शिव भगवान् की पूजा करें। 


 शुभ मुहूर्त


4 अगस्त को पंचमी तिथि शाम 6.49 बजे शुरू होगी।

5 अगस्त के दिन नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त सुबह 5:49 से 8:28 के बीच पड़ रहा है। जबकि समाप्ति तिथि इसी दिन दोपहर 3:54 तक रहेगी।
Copyright @ 2019.