राष्ट्रीय (15/09/2019) 
जातियों की दलदल ही, बहुजन समाज की दुर्दशा का मुख्य कारण है : लक्ष्य

लखनऊ ||   लक्ष्य की टीम ने " गांव गांव भीम चर्चा " अभियान के तहत लखनऊ के बक्शी का तालाब के गांव नगर चौगवां बहादुर गंज में एक भीम चर्चा की |

 

जातियों की दलदल ही, बहुजन समाज की दुर्दशा का मुख्य कारण है अर्थात बहुजन समाज के सभी दुःखों  की जड़ यह जातियां  ही है जो हमारे आपसे में भाईचारा नहीं बनने देती है और दूषित मानशिकता वाले लोग इसका हजारो वर्षो से फायदा उठा रहे है | बहुजन समाज एक मजबूत व् विराट समाज है लेकिन उसको जातियों के छोटे छोटे टुकड़ो में बाटा हुआ है और उन जातियों  को भी ऊंच-नीच की भावना में बांट कर रखा हुआ है और मजे कि बात यह है कि  हम  सभी जाति के लोग अपनी अपनी जाति की दलदल में आनंदित है जोकि बहुत ही दुखद है यह बात लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या, संघमित्रा गौतम व् लक्ष्य युथ कमांडर विनय प्रेम ने कही |

 

उन्होंने बहुजन समाज के लोग से अपील करते हुए कहा कि हमें अपनी दुर्दशा पर गर्व करने की बजाये अपने मजबूत व् विराट बहुजन  समाज पर गर्व करना चाहिए और उसकी मजबूती के लिए सभी लोगो को अपनी अपनी जातियों की दलदल से बहार निकलना होगा तभी जाकर बहुजन समाज देश का हुकमरान बन सकेगा और बहुजन समाज की हजारो वर्षो की गुलामी का अंत हो पायेगा |

 

उन्होने कहा  कि  हमें उन  मुट्ठी भर दूषित  मानशिकता वाले लोग की चालो  से भी  बचना है  जो हमें हजारो वर्षो से तरह तरह की चालो में फसाकर हमारा  शोषण व् उत्पीड़न कर रहे है | हमें अपने बहुजन होने पर गर्व करना चाहिए न की दलित होने पर |

 

लक्ष्य कमांडरों ने बहुजन समाज के  महापुरुषों के योगदान की भी विस्तार से चर्चा की और लोगो से आवाहन किया कि  जल्द से जल्द बहुजन समाज की मजबूती के लिए कार्य करना चाहिए, जितना हम जल्दी समझ जायेंगे उतना ही जल्दी हमारे दुःखों का अंत हो जायेगा |

Copyright @ 2019.