राष्ट्रीय (26/09/2019) 
दिल्ली भाजपा ने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और विधायक सौरभ भारद्वाज के खिलाफ पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

नई दिल्ली, 26 सितम्बर। पूर्व विधायक  कपिल मिश्रा एवं भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश मीडिया सह-प्रभारी  नीलकांत बख्शी ने आज दिल्ली पुलिस उपायुक्त से मिलकर अरविन्द केजरीवाल और उनके विधायक सौरभ भारद्वाज के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। यह शिकायत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उनकी पार्टी के विधायक द्वारा दिल्ली में एनआरसी के बारे में झूठी अफवाहे फैलाने, सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन्स की अवेहलना करने व उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, उड़ीसा के नागरिकों की तुलना घुसपैठियों से कर राज्य की शांति व्यवस्था को भंग करने की साजिश रचने को लेकर है।

    पूर्व विधायक  कपिल मिश्रा ने कहा कि यह भी संभव है कि दिल्ली में रह रहे बांग्लादेशी और रोहिंग्या को बचाने और सुप्रीम कोर्ट और भारत सरकार का घुसपैठियों की पहचान करने का जो दिशानिर्देश है उसके रास्ते में रोड़ा अटकाने की सोची समझी साजिश है। हमने दिल्ली पुलिस उपायुक्त से मिलकर केजरीवाल और उनके विधायक सौरभ भारद्वाज के खिलाफ अफवाह फैलाने, शांति भंग करने का प्रयास करने, दिल्ली में रह रहे पूर्वांचलवासियों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने, सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों को लागू करने से रोकने का प्रयास करने व दिल्ली में कानून व्यवस्था का संकट पैदा करने की कोशिश करने का मामला दर्ज किया जाये।


    पुलिस उपायुक्त से मिलने के बाद प्रदेश मीडिया सह-प्रभारी  नीलकांत बख्शी ने बताया कि कल 25 सितम्बर को केजरीवाल और उनके साथी विधायक द्वारा राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्ट्र (एनआरसी) के बारे में मीडिया में जानबूझकर इस प्रकार की अफवाह फैलाने की कोशिश की गई जिससे न केवल एनआरसी को लेकर समान्य जनता में भ्रम की स्थिति पैदा हो गई, बल्कि शहर में कानून व्यवस्था की भी समस्या खड़ी होने की संभावना है। मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने जानबूझ कर उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, उड़ीसा सहित दूसरे राज्यों के लोगों की तुलना अवैध घुसपैठियों और रोहिंग्यों से करके दिल्ली का माहौल खराब करने की साजिश रच रहे हैं। मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से आम आदमी पार्टी और उनके कार्यकर्ताओं ने इसका जमकर दुष्प्रचार किया। यह सीधे तौर पर केन्द्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट की योजना के बारे में लोगों के बीच अविश्वास पैदा करने, अफवाह फैलाने और कानून व्यवस्था को खराब करने की मंशा से किया गया है। यह मामला दिल्ली में रह रहे प्रवासी लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का है। जिस प्रकार दूसरे राज्यों के निवासियों की तुलना अवैध घुसपैठियों से की गई है इसे लेकर दिल्ली के लोगों में गुस्सा है और सामाजिक शांति भंग करने का कारण बन सकता है।

Copyright @ 2019.