राष्ट्रीय (08/11/2019) 
जिनको अपने पर भरोसा होता है वही लोग सामाजिक शोषण के खिलाफ संघर्ष कर सकते हैं : लक्ष्य

सीतापुर ||  लक्ष्य की महिला टीम ने "लक्ष्य गांव गांव की ओर" अभियान के तहत सीतापुर के गांव कमोलिया का दौरा कर लोगो के साथ भीमचर्चा की |

 

जिनको अपने पर भरोसा होता है वही लोग सामाजिक शोषण के खिलाफ संघर्ष कर सकते हैं अर्थात जिन लोगो को अपने पर भरोसा होता है वही लोग संघर्ष की भाषा को समझ सकते है और वही समाज में सामाजिक परिवर्तन की लहर को आगे बढ़ा सकते है और ऐसे लोग जीवन में जल्दी से  हार  नहीं मानते है और वे हमेसा औरो को भी भरोसा दिलाते है कि जीवन में कोई भी कार्य मुश्किल नहीं है | इतिहास  गवाह है ऐसे लोग बहुत कम होते है लेकिन मानशिक मनोबल से भरपूर होते है और लक्ष्य को हासिल करके ही दम लेते हैं वो समाज को  एक सक्षम नेतृत्व  देने में कामयाब होते है |  ऐसे ही थे हमारे महापुरुष यह बात लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या, संघमित्रा गौतम व बबिता सेन ने भीम चर्चा के दौरान कही |

 

उन्होंने कहा कि इसके विपरीत वो लोग जिनको अपने पर भरोसा नहीं होता है वे खुद तो डरे डरे रहते ही है और समाज में भी डर का भाव पैदा करते रहते है वो हमेसा आप को कहते मिलेंगे कि अब कुछ होने वाला नहीं है, कोई सुनता नहीं है, सब अपने में मस्त है, उसने ऐसा कहा और इसने ऐसा कहा, कोई भी भरोसे लायक नहीं है, जो हो रहा है वही ठीक है, हमने समाज में बहुत काम किया है अब थक गए है, हमारा तो मन भर गया है सामाजिक काम से, सब बेकार  है, यह समाज सुधरने वाला नहीं, यहाँ समय और पैसे  की बर्बादी ही बर्बादी है, सामाजिक कार्य से क्या होने वाला है, लक्ष्य कमांडरो ने कहा कि ऐसे लोग समाज के लिए बहुत खतरनाक होते है, बहुजन समाज के लोगो को ऐसे लोगो से बचना चाहिए और अपना भरोसा मजबूत करना चाहिए तभी जाकर बहुजन समाज सामाजिक परिवर्तन की करवट ले सकता है |

 

लक्ष्य कमांडरो ने बहुजन समाज से अपील करते हुए कहा आओ मिलकर समाज में भरोसे का भाव पैदा करे और सामाजिक परिवर्तन की लहर को आगे बढ़ाएं |

 

इस भीम चर्चा में लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या, संघमित्रा गौतम, बबिता सेन, धर्मराज गौतम, खुसबू गौतम, निशा गौतम व रामपति गौतम ने हिस्सा लिया |

 

Copyright @ 2019.