(03/07/2020) 
बच्चों के अधिकारों का संरक्षण करना अध्यापक एवं अभिभावकों का नैतिक कर्तव्य है : ज्योति राठी सदस्या दिल्ली बाल संरक्षण आयोग

शाहदरा विधिक सेवाएं प्राधिकरण , भागीदारी जन सहयोग समिति ( पंजीकृत )एवं  मंडलीय शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान कड़कड़डूमा   के संयुक्त तत्वावधान मादक पदार्थ सेवन उन्मूलन पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया l दिल्ली बाल संरक्षण आयोग की सदस्या ज्योति राठी ने आयोग की बाल अधिकार के प्रति कटिबध्यता का उल्लेख करते हुए बताया कि राजधानी दिल्ली में बच्चों के अधिकारों के उलंघन को आयोग बड़ी गंभीरता से लेता है l उन्होंने कहा कि बच्चों के अधिकारों का संरक्षण करना तथा उन्हें यौन- शोषण से बचाना अध्यापक एवं अभिभावकों का नैतिक कर्तव्य है l

 इस अवसर पर बोलते हुए स्कूल ऑफ़ लीगल स्टडीज गुरु गोबिंद सिंह यूनिवर्सिटी की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ० शिवानी गोस्वामी ने युवाओं में मादक पदार्थ सेवन के बढ़ते चलन पर गहरी चिंता व्यक्त

   न्यायाधीश हरजीत सिंह जसपाल सचिव उत्तर पूर्वी जिला  विधिक सेवाएं प्राधिकरण ने एन.डी.पी.एस. अधिनियम 1985. से सम्बंधित प्रावधानों  से अवगत कराया l उन्होंने अध्यापकप्रशिक्षणार्थियों स्वयं आदर्श बनकर समाज को दिशा देने का

Copyright @ 2019.