राष्ट्रीय (07/09/2020) 
क्या मलमास में कोई भी शुभ कार्य नहीं हो सकता ? - मदन गुप्ता सपाटू,
आश्विन महीने में अधिमास 18 सितंबर से शुरू होकर 16 अक्टूबर तक चलेगा। नवरात्रि 17 अक्टूबर से शुरू , 26 अक्टूबर को दशहरा और 14 नवंबर को दीपावली होगी। इसके बाद 25 नवंबर को देवउठनी एकादशी के साथ ही चातुर्मास समाप्त हो जाएगा। कोई भी नई वस्तुएँ जैसे की घर, कार, इत्यादि ना खरीदे घरके निर्माण का कार्य को शुरू ना करें और ना ही उस से संबंधित कोई भी समान खरीदें ,कोई भी शुभ कार्य जैसे विवाह, गृह.प्रवेश, सगाई मुंडन व नए कार्य प्रारंभ नहीं करने चाहिए।  
ऐसा नहीं है कि मलिन मास या खर मास में कोई शुभ काम हो ही नहीं सकता । वैसे भी 2020 में कोरोना काल में मार्च से अब तक सब कुछ मालिन्य ही चल रहा है और उपर से धार्मिक या ज्योतिषीय कारणों से पूरा एक महीने में दिनचर्या और प्रभावित हो जाए , उसके लिए कुछ तो प्रावधान होगा ? जी बिल्कुल है। पूरे महीने शुभ कार्यों पर प्रतिबंध नहीं रहेगा।
मलमास में क्या कर सकते हैं क्या नहीं ं?
विवाह की बातचीत , विवाह की मौखिक सहमति, पहले से आरंभ किए गए कार्यों का समापन, प्रापर्टी की रजिस्ट्र्ी, वाहन की बुकिंग, ब्याना, सरकारी कार्य, पढ़ाई, शिक्षा का एडमिशन , नार्मल रोटीन , दैनिक व्यवस्था के कार्य आदि।
एक मास में कुछ ऐसे दिन भी हैं जब आप कई काम कर सकते हैं।
यों तो 18 सितंबर ,शुक्रवार को उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र है जो शुभ ही है। 
सर्वार्थसिद्धि योग 21,26 सितंबर, और अक्तूबर में 1, 2,4,6,7,9,11, है। ये दिन सफलतादायक हैं।
द्विपुष्कर योग में दोगुना फल मिलता है। ये तिथियां 19 व 27 सितंबर को रहेंगी।
अमृतसिाद्धि योग भी ज्योतिष में दीर्घकालीन कार्यों के लिए ठीक होता है। यह 2 अक्तूबर को पड़ेगा।
रविपुष्य योग में कुछ नए काम आरंभ कर सकते हैं। यह  11 अक्तूबर को होगा।
सो आप अपने कार्यानुसार इन तिथियों का चयन कर सकते हैं।
- मदन गुप्ता सपाटू, 9815619620
- 458, सैक्टर 10, पंचकूला
Copyright @ 2019.