विशेष (25/03/2022) 
डिप्रेशन में रामबाण है कैनाबिज आधारित दवाएं
वैद्य मारिया परवेज़ (अनंता विज्या वेलनैस क्लिनिक)
- कोरोना के साथ ही लोगों में अनिद्रा, तनाव और डिप्रेशन लगातार बढ़ रहा है। अब छोटी उम्र के युवा भी नींद के लिए दवाओं का इस्तेमाल करने लगे हैं। साथ ही लगातार काम और टारगेट की वजह से लोगों में तनाव का स्तर भी बहुत ज्य़ादा बढ़ गया है। इससे नई नई मानसिक बीमारियां भी बढ़ रही हैं। 
WHO के मुताबिक भारत में 6.5 परसेंट लोग गंभीर मानसिक बीमारियों से ग्रसित हैं। देश में आत्महत्या की दर भी काफी ज्य़ादा है। कोरोना के कारण तो ये डिप्रेशन पूरे देश में बहुत सारे लोगों के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में कोरोना के बाद 40 परसेंट से ज्य़ादा लोगों में डिप्रेशन हो गया है। 
आयुर्वेद की विज्या यानि कैनाबिज मानसिक रोगों से मुक्ति दिला सकती है। दिल्ली के मयूर विहार में लंबे समय से इस तरह के मरीजों का इलाज कर रही अनंता विज्या वेलनैस क्लिनिक की वैद्य मारिया परवेज़ के मुताबिक, आयुर्वेद में इन बीमारियों की मुख्य वजह वात और कफ का संतुलन बिगड़ना बताया गया है। मॉर्डन लाइफ की वजह से लोगों में भारी तनाव है और इसकी वजह से लोगों में डिप्रेशन घर कर जाता है। नींद की दवाओं से भारी साइड इफैक्ट होते हैं, कुछ लोगों का वजन असमान्य तौर पर बढ़ जाता है तो कुछ के लीवर को नुकसान पहुंचता है। लेकिन आयुर्वेद में विज्या या कैनाबिज बिना की साइड इफैक्ट के नींद ना आने, तनाव और डिप्रेशन में काफी कारगर है ।    
वैद्य मारिया के मुताबिक कैनाबिज वात और कफ नाशक है, हालांकि ये थोड़ी उष्ण प्रवृति की होती है इसलिए पित्त को बढ़ा देती है। इसलिए इसके साथ कुछ ओर मेडिसन भी दी जाती है। ताकि शरीर का संतुलन बेहतर हो और इन बीमारियों से मुक्ति मिल जाए। इसलिए इन बीमारियों में किसी प्रशिक्षित वैद्य से ही सलाह लेनी चाहिए। कैनाबिज तनाव में बहुत ही कारगर होता है। साथ ही सिर में दर्द में भी ये राम बाण साबित होता है।
Copyright @ 2019.