18/09/2014  शिक्षक ही समाज का निर्माता.नरेन्द्र सिंह
रायपुर। भाजपा शिक्षक प्रकोष्ठ की प्रांतीय बैठक गुरूवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय एकात्म परिसर में आयोजित की गई। बैठक में शिक्षक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय संयोजक नरेन्द्र सिंह व प्रदेश प्रभारी ओमप्रकाश शुक्ला का प्रदेश संयोजक जगन्नाथ पाणिग्राही ने श्रीफलए शाल और प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया। इस अवसर पर मंच में प्रदेश के शिक्षा मंत्री केदार कश्यप, प्रदेश उपाध्यक्ष सच्चिदानंद उपासनेए आईटी सेल के प्रदेश संयोजक दीपक म्हस्केए प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय संयोजक नरेन्द्र सिंह, प्रदेश प्रभारी ओमप्रकाश शुक्ला, प्रदेश संयोजक जगन्नाथ पाणिग्राही, जिलाध्यक्ष अशोक पाण्डेय, अजय राव, भरत मटियारा विशेष रूप से उपस्थित रहे।
प्रदेश के शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने समापन भाषण देते हुए कहा शिक्षक एक कुम्हार की भांति होता है। जैसे. कुम्हार चाक में रखे मिट्टी को जिस ढाल में ढालना होताए वह उसी तरह ढालता जाता है। कुम्हार  मिट्टी का अलग.अलग प्रकार के बर्तन बनाता है। फिर उसके बाद मिट्टी के बर्तन को आग में पकाता है। तब मिट्टी का बना बर्तन पूरी तरह से मजबूत हो जाता है। ठीक उसी प्रकार शिक्षक भी विद्यार्थियों को जिस ढाल में ढालता जाता हैए विद्यार्थी भी उसी ढाल में आगे बढ़ता जाता है। विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। 
श्री कश्यप ने कहा कि वनांचल क्षेत्र के बच्चों को भी अच्छी शिक्षा मिले, इस क्षेत्र में प्रदेश की भाजपा सरकार नई.नई योजनाएं बना रही है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में नई.नई पद्धति लागू की जा रही हैए ताकि विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा मिल सके। सुदूर क्षेत्र के बच्चों को भी अच्छी शिक्षा की पात्रता उपलब्ध करानी है। प्रदेश की भाजपा सरकार ने वनांचल क्षेत्र के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले इसके लिए प्रयास नामक संस्था की स्थापना की है। इंजीनियरिंगए आईआईटी एवं उच्च शिक्षा के लिए प्रदेश सरकार नई.नई योजनाएं लागू की हैए ताकि शिक्षा के क्षेत्र छत्तीसगढ़ विश्व में अलग पहचान बना सके। 
शिक्षक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह ने उपस्थित गुरूजनों को संबोधित करते हुए कहा कि विद्यार्थियों के भविष्य निर्माण में शिक्षक की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। शिक्षक ही समाज का निर्माता होता है। उन्होंने कहा कि शिक्षक के अंदर बहुत ताकत है। शिक्षक बहुत कुछ बना सकता है। एक शिक्षक की भूमिका का निर्वहन करते हुए शिक्षक की महता को स्वीकार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों के साथ.साथ मण्डल स्तर तक एक शिक्षक को जोडऩे का मुहिम प्रकोष्ठ के शिक्षकों को चलाना है। भाजपा प्रदेश में और मजबूत पार्टी के रूप में उभरेगी। उन्होंने कहा कि शिक्षक समाज से अछूता नहीं है। वह समाज का अभिन्न अंग है। विद्यार्थियों को शिक्षा का ज्ञानए आदर्श नागरिक का निर्माण एक शिक्षक की करा सकता है। प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी ओमप्रकाश शुक्ला ने संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षक पार्टी की रीढ़ है। शिक्षक के बिना कुछ नहीं हो सकता है। उन्होंने प्रकोष्ठ के शिक्षकों से कहा कि निचले स्तर हो या उच्च स्तरए चाहे वह एग्रीकल्चरए चिकित्सा का हो या प्रदेश के नौजवान साथियों को प्रकोष्ठ की सदस्य बनाना है। 
प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक जगन्नाथ पाणिग्राही ने बैठक में उपस्थित राष्ट्रीय संयोजकए प्रदेश प्रभारी एवं समस्त गुरूजनों का स्वागत और अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि आज की बैठक का मुख्य उद्देश्य समाज निर्माण में शिक्षकों की भूमिका पर चर्चा करना है। यह विषय ही इतना महत्वपूर्ण है कि समाज निर्माण की कल्पना करते हैं तो शिक्षक का योगदान और भूमिका महत्वपूर्ण बन जाती है और उन्होंने कहा कि जिस तरह यंत्र निर्माण में इंजन का महत्वपूर्ण योगदान होता है, ठीक उसी प्रकार समाज निर्माण में शिक्षक रूपी इंजन का महत्वपूर्ण योगदान है। शिक्षक के बिना समाज निमार्ण की कल्पना नहीं की जा सकती है। बैठक का संचालक शिक्षक प्रकोष्ठ के सह.संयोजक दीपक ताम्रकार एवं आभार व्यक्त मोहन तिवारी ने किया।
बैठक में देवभोग ;गरियाबंद जिलाद्ध से वैकल्पिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष चवन लाल बघेल, सत्यनारायण अग्रवाल, ओमप्रकाश वर्मा, रामशरण वर्मा, बसंत कुमार शर्मा, रघुनाथ राणा, मोरध्वज साहू, महेन्द्र कुमार परगहनिया, वरूण यादव, चंद्रकुमार परगनिहा, शंकर लाल शर्मा, रामाधार सिंह ठाकुर, मोहनप्रसाद तिवारी, सुरेशचंद्र श्रीवास्तव, आलोक कुमार झा, चंद्रशेखर यादव, प्रहलाद सोनी, मानसिंह सोमवंशी, ओपी शर्माए जगदीश प्रसाद मिश्रा, प्रदीप शर्मा, उदयराम देवांगन, कृष्णा द्विवेदी, कुंजबिहारी द्विवेदी, वामन प्रसाद मिश्रा, रामजी लाल अग्रवाल, आरएस चौहान, मनोज राय, विद्यासागर तिवारी, भुनेश्वर पांडेय सहित सभी जिला के विभिन्न पदों पर नेतृत्व करने वाले सैकड़ों शिक्षकगण उपस्थित थे।
Copyright @ 2017.