(27/08/2021) 
डीएसएसजी पर लोगों का बढ़ता भरोसा।
दतार सुरक्षा सेवा समूह यानी DSSG को साल 2004 में रिटायर्ड कर्नल पीएस भिंडर ने शुरू किया था रिटायर्ड कर्नल भिंडर को उनके भारतीय सेना में सेवा के लिए शौर्य चक्र से सम्मानित किया जा चुका है।

सेना से रिटायर्ड होने के बाद कर्नल भिंडर ने अपने सेवानिवृत्त जवानों के लिए कुछ करने का बीड़ा उठाया और फिर देश में निर्माण किया एक ऐसी सुरक्षा एजेंसी का जिस पर लोगों को भरोसा हो और उस एजेंसी का नाम रखा दत्तार सिक्योरिटी सर्विस ग्रुप यानी DSSG 
देश सेवा को सर्वोपरि माननें वाले कर्नल भिंडर दिन रात एक कर डीएसएसजी को आगे बढ़ाने में जुट गए और  इस सेवा समूह ने अपने कुशल और साधन सम्पन्न कर्मचारियों के साथ सरकारी और निजी दोनो क्षेत्रों में असाधारण सुरक्षा सेवा देने के लिए एक मिशन शुरू किया, जो अभी तक बदस्तूर जारी है, 2004 में जब ये मिशन शुरू हुआ तो उस समय 300 गार्ड थे। 
डीएसएसजी के बढ़ते कदमों में मील का पत्थर साबित हुए हैं कर्नल भिंडर के बेटे आदिल भिंडर जिन्होंने अपनी लगन और मेहनत कसे अपने पिता का सहयोग किया, जिस कारण आज 2021 में लगभग 8000 गार्ड हैं। आदिल ने बताया कि हम देश के अलग अलग राज्यों में अपनी सेवा दे रहे हैं,DSSG सबसे पहले सुरक्षाकर्मी को ट्रेनिंग देता है, जिसके बाद ये ट्रेंड सुरक्षाकर्मी अपने अपने क्षेत्रों को सुरक्षित करते है, ये सुरक्षाकर्मी गश्त के ज़रिए चोरी और बर्बरता जैसे अपराध को रोकने के लिए अपनी जी-जान लगा देते है। DSSG निर्माण, परिवहन और शिक्षा के क्षेत्र के अलावा कृषि, स्वास्थ्य देखभाल और बैंकिंग जैसे अलग अलग क्षेत्रों में अपनी सेवाए देते है, DSSG का एक आदर्श वचन है, ये सभी को निष्पक्ष और समान अवसर भी देता हैं, यहीं कारण है कि DSSG एक पारदर्शी और आत्मबल से सराबोर हैं, जो मेहनती लोगों को मौक़ा देकर उनके जीवन को और भी अधिक मूल्यवान बनता है…
Copyright @ 2019.