(10/12/2021) 
उत्तराखंड में जनरल बिपिन रावत के नाम का स्मारक बने- रईस खान पठान
जनरल बिपिन रावत एक महान सैनिक, विचारक और राष्ट्रभक्त और जटिल समस्याओं को संभालने की अदम्य क्षमता के साथ साहस, रणनीतिक सोच के प्रतीक थे। में उनके असामयिक निधन पर बहुत दुखी हूं और इस दुख के साथ अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। यह कहना है रहिस खान पठान का।

रईस खान पठान ने मुख्यमंत्री उत्तराखंड पुष्कर सिंह धामी को लिखे अपने पत्र में यह भी कहा कि जनरल विपिन रावत इस महत्वपूर्ण मोड़ पर उनके हमें छोड़कर जाने से एक खालीपन आया है जिसे भरना आसान नहीं होगा।  यह राष्ट्र के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है लेकिन उत्तराखंड राज्य की देवभूमि के लिए इससे भी अधिक क्योंकि उन्होंने राज्य के विकास के लिए बहुत योगदान दिया था।
 वह हमेशा हमारे दिल में रहेंगे।  जबकि राष्ट्र इस महान सैनिक का सदैव ऋणी रहेगा और वह सदैव सबके हृदय में गौरव का स्थान पायेगा।  यह महत्वपूर्ण है कि उत्तराखंड राज्य में उनके नाम पर एक स्मारक होना चाहिए।  हालांकि कई विकल्प हैं लेकिन मुझे लगता है कि उन्हें 50 बीघे भूमि पर देहरादून के पुरकुल गांव में बनने वाले सैन्या धाम में एक प्रमुख स्थान मिलना चाहिए।  जैसा कि आप जानते हैं कि इस आगामी सैन्या धाम के पूरा होने पर उत्तराखंड में पांच धाम हो जाएंगे।
 हाल ही में हमारी सरकार ने हमारे सैनिकों के परिवारों के लिए पहल की थी जिन्होंने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था और सैन्य धाम देहरादून में उपयोग के लिए अपने घरों से मिट्टी एकत्र की थी।  धरती पुत्र होने के नाते यह हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि हम यह सुनिश्चित करें कि जनरल बिपिन रावत को राज्य के नागरिकों द्वारा हमेशा याद किया जाए।  यदि उत्तराखंड के देहरादून के सैन्या धाम पुरुकुल गांव का प्रवेश मुख्य द्वार जनरल बिपिन रावत जी के नाम पर समर्पित है तो इसका लाभ होगा।  
Copyright @ 2019.