राष्ट्रीय (08/06/2021) 
पूर्वी निगम द्वारा नालों की डिसिल्टिंग कर निकाला गया 26267 मिट्रिक टन सिल्ट - निर्मल जैन


          पूर्वी दिल्ली के महापौर, निर्मल जैन ने निगम मुख्यालय में आज वरिष्ठ निगम अधिकारियों के साथ बैठक कर निगम क्षेत्राधिकार में नालों की डिसिल्टिंग के कार्य की प्रगति के बारे में विस्तार से चर्चा की। इस बैठक में उनके साथ स्थायी समिति के अध्यक्ष, सत्यपाल सिंह और प्रमुख अभियंता, विजय प्रकाश सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

          महापौर, निर्मल जैन ने बताया कि निगम द्वारा मानसून के मद्देनजर पूर्वी दिल्ली नगर निगम क्षेत्राधिकार में स्थित कुल 219 नालों में 26267 मिट्रिक टन सिल्ट निकाला जा चुका है और इसे एसएलएफ साइट भेजा जा चुका है। महापौर ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बार पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने 46086 मिट्रिक टन सिल्ट को निकालने का लक्ष्य रखा था जिसमें से लगभग 26267 मिट्रिक टन निकाला जा चुका है। इस प्रकार कुल मिलाकर 57 प्रतिशत कार्य पूरा कर लिया गया है।

            जैन ने बताया पूर्वी दिल्ली नगर निगम द्वारा अपने निगम क्षेत्राधिकार में लगातार नालों की डिसिल्टिंग का काम किया जा रहा है ताकि मानसून के आगमन के बाद किसी भी अप्रिय स्थिति से बचा जा सके। महापौर ने जानकारी देते हुए बताया कि शाहदरा दक्षिणी क्षेत्र में 105 नालों में से 76 नालों में डिसिल्टिंग का कार्य लगभग पूरा हो गया है और 29 नालों में यह कार्य चालू है। उन्होंने बताया कि शाहदरा दक्षिणी क्षेत्र में 15437 मिट्रिक  टन  सिल्ट निकालने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसमें से 13364 मिट्रिक टन सिल्ट का निकाला जा चुका है और 7 जून तक इसे एसएलएफ साइट भेजा जा चुका है। जैन ने बताया कि शाहदरा दक्षिणी क्षेत्र में डिसिल्टिंग का लगभग 87 प्रतिशत कार्य पूरा किया जा चुका है।

              महापौर ने बताया कि इसी प्रकार शाहदरा उत्तरी क्षेत्र निगम क्षेत्र में स्थित 114 नालों में से 30 नालों में डिसिल्टिंग का कार्य लगभग पूरा हो गया है और 84 नालों में यह कार्य सिल्ट निकालने का कार्य लगातार जारी है। और इस प्रकार शाहदरा उत्तरी क्षेत्र के नालों में से 12903 मिट्रिक टन सिल्ट निकाल कर एसएलएफ साइट भेज दिया गया है।

महापौर ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि क्षेत्र में डिसिल्टिंग के कार्य में तेजी लाये ताकि मानसून के आगमन से पूर्व यह कार्य पूरा कर लिया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि 20 जून तक क्षेत्र के नालों की डिसिल्टिंग के कार्य को पूरा कर लिया जाये जिससे क्षेत्र की जनता को जलभराव की स्थिति का सामना ना करना पड़े। 

Copyright @ 2019.