विशेष (10/06/2021) 
पूर्वी निगम में महंगे दामों पर सीसीटीवी कैमरे लिए जाने के विरोध में विपक्ष ने जताया एतराज़, टेंडर हुआ रद्द - मनोज त्यागी
पूर्वी दिल्ली नगर निगम के नेता विपक्ष मनोज कुमार त्यागी ने अपने कक्ष 419, उद्योग सदन, पटपड़गंज, पर पै्रस वार्ता की। इस प्रैस वार्ता में नेता विपक्ष ने कहा कि एमएचए ने 6 पीएसयू को अधिकृत किया हुआ है जिसके माध्यम से निगम या अन्य सरकार के विभागों  में निकाले गए टेंडर में कोई भी कंपनी भागीदार कर सकती है। यह सभी पीएसयू एमएचए, एनडीएमसी या फिर स्मार्ट सिटी गाइड लाईन पर काम करती है। नेता विपक्ष ने कहा कि एक पीएसयू जो कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम में सभी तरह से काम करती है और लगभग 5000 कर्मचारी जो इस पीएसयू अर्थात् बेसिल कंपनी जो भारत सरकार का उपक्रम है इस कंपनी से पूर्वी निगम कर्मचारी/मैन पावर लेती है लेकिन सीसीटीवी टेंडर में भागीदारी की बात आयी तो भाजपा नेताओं ने कुछ अधिकारियों की मिलीभगत से एक नया नियम जोड़ दिया जिसमें Solvency की लिमिट 14 करोड़ के स्थान पर 17 करोड़ रूपये कर दी गयी ताकि अन्य पीएसयू इस टेंडर में भागीदारी न कर सके। नेता विपक्ष ने कहा कि 5000 कैमरे लगाने हेतु लगभग 36 करोड़ रूपये व्यय किया जाएगा अर्थात्  इस हिसाब से एक कैमरे की कीमत लगभग 70,000/- रूपये होती है जोकि बहुत ज़्यादा है।
       नेता विपक्ष ने कहा कि फरवरी 2020 में स्कूलों में कैमरा लगाने हेतु बेसिल कंपनी की ओईएम (OEM)  को टेण्डर मिला था फिर कोरोना काल आ गया जब यह टेण्डर हो चुका था तो इसे निरस्त क्यों किया गया, इसी कंपनी को टेण्डर दिया जाना चाहिए था लेकिन भाजपा एवं उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से इसे निरस्त कर भाजपा नेताओं की मिलीभगत वाली कंपनी को टेण्डर देने के लिए तमाम नॉर्म्स तैयार किए गए जो असंवैधानिक था।
       नेता विपक्ष ने कहा कि आम आदमी पार्टी के सभी निगम पार्षदों एवं मनोनीत निगम पार्षदों के साथ हमने सिंगल बिडर टेण्डर को निरस्त करने के लिए आयुक्त महोदय से मिले और उनको लिखित रूप में भी दिया कि इतने महंगे कैमरे जो कि एक सिंगल कंपनी ने बीड में क्वालिफाई किया है इसके रेट लगभग 70,000 /- रूपये प्रति कैमरा  है जो कि बहुत महंगा है। इस टेण्डर में कोई दूसरी कंपनी क्वालिफाई नहीं की, इसलिए इस टेण्डर को तुरन्त निरस्त किया जाये और नये सिरे से टेण्डर कर नियमों में छूट का प्रावधान दिया जाये जिससे टेण्डर में अधिक से अधिक कम्पनियॉं भागीदारी कर सकें।
नेता विपक्ष ने कहा कि मैं आयुक्त महोदय को टेण्डर निरस्त पर आभार व्यक्त करता हॅूं और कामना करता हॅूं कि भविष्य में भी विपक्ष की बात को सुनेगे और निगम के हित में इस प्रकार से निर्णय लेते रहेंगे। इस प्रकार के कदम से निगम को करोड़ रूपये के नुकसान होने से बचाया जा सकता है। नेता विपक्ष को प्रमुख अभियन्ता विजय प्रकाश के माध्यम से सूचना मिली सीसीटीवी कैमरे के टेण्डर को सिंगल बिडर होने के कारण निरस्त किया गया है जिसकी पुष्टि अतिरिक्त आयुक्त  ब्रजेश सिंह से हुई। 
Copyright @ 2019.