राष्ट्रीय (03/11/2021) 
*आम आदमी पार्टी ने की मांग, महज एक साल में गिरने वाली पार्किंग का ऑडिट कराया जाए, भाजपा के भ्रष्टाचार की जांच कर दोषियों को सजा दी जाए*

आम आदमी पार्टी ने मांग की है कि एक साल में गिरने वाली पार्किंग का ऑडिट कराया जाए। भाजपा के भ्रष्टाचार की जांच कर दोषियों को सजा दी जाए। आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले पार्किंग का आनन-फानन में केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने उद्घाटन किया। ग्रीन पार्क के घनी आबादी क्षेत्र में बिना सेफ्टी ऑडिट के 17 मंजिला पार्किंग बना दी गई। दिल्ली को एमसीडी और भाजपा ने शर्मसार किया है। विधायक आतिशी ने कहा कि एमसीडी की पार्किंग एक साल के भीतर गिर गई। यह भाजपा के भ्रष्टाचार का प्रमाण है। पार्किंग के निर्माण की जिम्मेदारी किस ठेकेदार को किस अधिकारी द्वारा दी गई‌। उनके भाजपा नेताओं से क्या लिंक हैं, इसकी जांच होना जरूरी है। विधायक सोमनाथ भारती ने कहा कि भाजपा ने भ्रष्टाचार में पीएचडी हासिल की हुई है। उसका नायाब नमूना है कि 1 साल के भीतर 19 करोड़ में बनी पार्किंग गिर गई। सुप्रीम कोर्ट के जरिए एसआईटी का गठन कर स्वतंत्र बॉडी से इस घोटाले की जांच करायी जाए। एसडीएमसी में नेता प्रतिपक्ष प्रेम चौहान ने कहा कि दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता बताएं कि इस पार्किंग घोटाले में क्या भाजपा शामिल थी?

आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने विधायक आतिशी, विधायक सोमनाथ भारती और एसडीएमसी में नेता प्रतिपक्ष प्रेम चौहान के साथ आज पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित किया। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली के ग्रीन पार्क क्षेत्र में दक्षिणी दिल्ली नगर निगम द्वारा बहुत जोर-शोर से ऑटोमेटिक पार्किंग बनाई गई। वह धड़ाम से नीचे गिर गई। इसको लेकर बड़ी बात‌ यह है कि इस पार्किंग का उद्घाटन दो बार अलग-अलग केंद्रिय मंत्रियों ने किया। एमसीडी की बिल्डिंग गिरना, भ्रष्टाचार का खुलासा होना, दिल्ली वालों के बड़ी बात नहीं है। यह बड़ी बात इसलिए है कि दिल्ली के विधानसभा चुनावों से ठीक पहले इस पार्किंग का आनन-फानन में केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने जनवरी 2020 में इसका उद्घाटन किया। सीएम अरविंद केजरीवाल मोहल्ला क्लीनिक, वर्ल्ड क्लास स्कूल, स्विमिंग पूल, वर्ल्ड क्लास स्टेडियम, अस्पताल दिखा रहे हैं तो हम क्या दिखाएं। ऐसे में आनन-फानन में केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने इसका उद्घाटन किया। उस वक्त हरदीप पुरी ने कहा कि अत्याधुनिक ऑटोमेटिक कार पार्किंग का ग्रीन पार्क क्षेत्र के‌ अंदर उद्घाटन किया है। इसका उद्घाटन बिना फुल पेज एड दिए किया गया है। साफ नीयत सही विकास।

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि उस वक्त विज्ञापन नहीं किया लेकिन अब फ्री विज्ञापन हो रहा है। अगर यह साफ नियत का विकास है तो ऐसी नियत से भगवान राम बचाएं। यह सीधा-सीधा भ्रष्टाचार है। यह एमसीडी का पैसा नहीं है, दुकानदारों से जबरदस्ती से पैसा वसूला गया है। उनकी दुकानों को सील करने की धमकी देकर उनसे कन्वर्जन और पार्किंग शुल्क के नाम पर लाखों रुपए प्रत्येक दुकान से वसूले गए। कई हजार करोड रुपए कन्वर्जन-पार्किंग शुल्क के नाम पर पूरी दिल्ली से वसूला। ऐसे में कहीं पर तो पार्किंग बनानी थी तो वहीं पर पार्किंग बना दी जहां पर पहले से ही पार्किंग उपलब्ध थी। 

उन्होंने कहा कि ग्रीन पार्क में जाकर देखिए, जहां पर पार्किंग बनी है वहां पर खूब बड़ी सर्विस पार्किंग उपलब्ध है। सिर्फ पैसों की कमाई करने के लिए इस पार्किंग को बनाया गया। इसका जल्दबाजी मे टाइम से पहले उद्घाटन किया गया। यह पार्किंग ऐसी पार्किंग है जिसका उद्घाटन दो अलग अलग मंत्रियों ने किया है। केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के बाद केंद्रीय मंत्री आरके सिंह, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, सांसद मीनाक्षी लेखी और मेयर ने नवंबर 2020 में उद्घाटन किया। कुछ महीनों के अंदर इस पार्किंग का एक हिस्सा गिर गया। अच्छी बात थी कि वहां पर कोई आदमी मौजूद नहीं था। अगर कोई मौजूद होता तो किसी की जान भी जा सकती थी। कई गाड़ियों का नुकसान हुआ है। इसके चलते कई सवाल उठते हैं कि क्या दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की ऑटोमेटेड पार्किंग बनाने की‌ कोई विशेषज्ञता है। इनके पास क्या विशेषज्ञता है यह हमें बताएं। इस तरीके की पार्किंग ऐसी जगह बना दी, जहां पर इसकी जरूरत नहीं थी। क्यों बनाई यह बताएं। 

उन्होंने कहा कि 17 मंजिला स्ट्रक्चर घनी आबादी में खड़ा कर दिया। क्या उसका कोई सेफ्टी ऑडिट, स्ट्रक्चरल ऑडिट हुआ था। क्या यह ढांचा इस लायक है कि गाड़ियों को झेल सके। किस एजेंसी ने ऑडिट किया है, कौन अधिकारी स्ट्रक्चर की सुरक्षा की जिम्मेदारी रखते हैं। क्या उन अधिकारियों को सस्पेंड किया गया। क्या उस कंपनी को जिसने ऑडिट किया था। उसके ऊपर कोई कार्रवाई की गई। इसके ऊपर 19 करोड रुपए का खर्च किया गया। यह 19 करोड रुपए दुकानदारों से जबरदस्ती वसूला गया था। पार्किंग को आज इस स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया कि कोई भी व्यक्ति उसके अंदर अब अपनी गाड़ी खड़ी नहीं करेगा। भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता खुद भी अपनी गाड़ी इसके अंदर खड़ी नहीं करेंगे। क्योंकि हर एक को डर लग रहा है कि गाड़ी खड़ी करेंगे तो पूरी पार्किंग गिर जाएगी। इनकी पार्किंग में कोई अपनी गाड़ी खड़ी करने के लिए तैयार नहीं था जिसकी वजह से सरफेस पार्किंग को महंगा किया गया, ताकि यहां पर लोग गाड़ी खड़ी करें। इसके बावजूद यह हाल हुआ है। पूरी दिल्ली को एमसीडी और दिल्ली भाजपा ने शर्मसार किया है।

आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधायक आतिशी ने कहा कि 
एमसीडी में 15 साल से भाजपा की सरकार है। दिल्ली में आम जनता भाजपा शासित एमसीडी सरकार के भ्रष्टाचार से त्रस्त है। दिल्ली का हर निवासी जानता है कि एमसीडी साफ सफाई से लेकर गलियां बनाने, ड्रेनेज बनाने, पार्किंग बनाने सहित कोई काम नहीं करती है। जब भ्रष्टाचार और उगाही का समय आता है तो सबसे पहले एमसीडी और भाजपा के पार्षद सामने खड़े नजर आते हैं। हम पिछले 1 साल से बार-बार भाजपा के द्वारा एमसीडी में किए गए भ्रष्टाचारों को दिल्ली वालों के सामने रख रहे हैं कि कैसे हजारों करोड़ के घोटाले एमसीडी में भाजपा ने कर डाले हैं। वह चाहे डेंगू की दवा, पार्किंग, पीएफ का घोटाला हो या कोई दूसरा घोटाला हो, एमसीडी को जो काम दिया, वहां पर उन्होंने घोटाला किया। 

उन्होंने कहा कि एमसीडी की पार्किंग में कल प्लेटफार्म गिरे हैं, यह भी एमसीडी के भ्रष्टाचार का प्रमाण है। इस पार्किंग को चालू हुए 1 साल हुआ है। पार्किंग बनाने में करोड़ों रुपए दिल्ली के करदाताओं का  लगा है। क्या इस बिल्डिंग की लाइफ एक साल भी नहीं थी। इस बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन की जिम्मेदारी किस कॉन्ट्रेक्टर को दी गई, किस अधिकारी द्वारा दिया गया, उनके भाजपा के नेताओं से  क्या  लिंक है, इसके ऊपर एक जांच बिठाई जानी जरूरी है। इससे बड़ा भ्रष्टाचार का क्या प्रमाण हो सकता है कि नगर निगम की पार्किंग का भाजपा दो दो बार जिसका उद्घाटन कराती है। साउथ दिल्ली की एक मुख्य जगह पर मुख्य बाजार में बनाई जाती है। वह पार्किंग एक साल भी नहीं चलती है। दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि पार्किंग का कॉन्ट्रैक्ट किसने दिया, किस एजेंसी को दिया, किस प्रकार का पैसे का लेनदेन हुआ, किस गुणवत्ता का मेटेरियल लगा और भाजपा के किस नेता ने 19 करोड रुपए में से कितना हिस्सा खाया है। दिल्ली के लोग एमसीडी की साफ सफाई, फॉगिंग ना करने से सहित अन्य बातों से परेशान थे। उसी तरह पार्किंग से भी दिल्ली वाले त्रस्त हैं। दिल्ली के किसी भी कोने में चले जाइए, उस क्षेत्र के लोग हाथ जोड़ लेते हैं कि पार्किंग बहुत बड़ी समस्या है। हमारे इलाके में पार्किंग की व्यवस्था नहीं है। यह पार्किंग बनाना एमसीडी की जिम्मेदारी थी। अब समझ में आ रहा है कि किस प्रकार से इस जिम्मेदारी को एमसीडी निभा रही थी। हमारी मांग है कि भाजपा के नेता, मेयर और केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी जो उद्घाटन में शामिल थे वह सामने आए और इन भ्रष्टाचार के सवालों पर जवाब दें कि ऐसा कैसे हो गया की पार्किंग एक साल भी नहीं चल पाया है। 

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और विधायक सोमनाथ भारती ने कहा कि मेरे पास कल शाम को 5 बजे सूचना आयी तो मैं तुरंत वहां पर पहुंचा। यह देखकर बहुत ही आश्चर्यचकित हो गया कि 1 साल के भीतर 19 करोड़ से बना इतना बड़ा स्ट्रक्चर कैसे ध्वस्त हो गया। वहां पर जिन लोगों ने गाड़ियां पार्क की थीं, वह लोग गाड़ी निकालने के लिए वही खड़े होते थे जहां पर पार्किंग गिरी है। वहां पर कोई भी भाजपा का नेता एमसीडी का अधिकारी नहीं पहुंचा। लोगों की जान से भी भाजपा ने खिलवाड़ शुरू कर दिया है।

उन्होंने कहा कि हम सभी को उम्मीद थी कि पार्किंग बनने से वाहनों  की भीड़भाड़ कम हो जाएगी। लेकिन लोगों को भाजपा शासित एमसीडी के कामों पर भरोसा नहीं है। इसका उपयोग नहीं हो रहा है। भाजपा ने भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन में पीएचडी हासिल की हुई है। उसका नायाब नमूना यह है कि 1 साल के भीतर 19 करोड से निर्मित पार्किंग गिर गई। इसका ना सेफ्टी ऑडिट हुआ और ना ही इसकी कीमत और उपयोगिता का ऑडिट किया गया। एक बहुत ही दर्दनाक घटना होते-होते रह गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और हमें दिल्लीवासियों की चिंता है। इसलिए हम मांग करते हैं कि इसका सेफ्टी, कॉस्ट और यूटिलिटी का ऑडिट कराया जाए। जिससे कि जनता का पैसा जो भाजपा के भ्रष्टाचार की बलि चढ़ गया है उसकी पूरी जांच हो और दोषियों को सजा मिले।

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने पिछले 1 साल से लगातार भाजपा का भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन दिखाया है। भाजपा ने एमसीडी को भ्रष्ट विभाग बनाने में कसर नहीं छोड़ी है। उसका बदला दिल्ली की जनता आगामी चुनाव में ज़रूर लेगी। आम आदमी पार्टी की मांग है कि दोषियों को सजा मिले और  इसकी पूरी जांच हो। इसमें कौन-कौन से भाजपा के नेता भ्रष्टाचार में शामिल हैं इसकी पूरी जांच की जाए। सबसे बड़ा सवाल है कि इसकी जांच कौन करेगा। आज सभी एजेंसी इनके पास में है। सुप्रीम कोर्ट के जरिए एसआईटी का गठन किया जाए। यह बड़ा घोटाला है। इस घोटाले की स्वतंत्र बॉडी से जांच हो। तभी जाकर दूध का दूध पानी का पानी हो पाएगा।

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष प्रेम चौहान ने कहा कि दिल्ली में नेहरू प्लेस, ग्रीन पार्क सहित किसी भी प्रकार की पार्किंग में जाएंगे तो वहां ना तो फर्स ठीक मिलेगा और  ना ही पट्टियां खींची होंगी। इसके अलावा ना ही वहां पर जो कार खड़ी होती उनकी सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम होता है। यह पैसा जो कन्वर्जन शुल्क से आया है वह ऐसी जगह पर लगना था जहां पर पार्किंग व्यवस्था दुरुस्त हो सके। भाजपा ने कमीशन खोरी के चलते इस तरह की पार्किंग जबरदस्ती बनाई। दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता बताएं कि इस पार्किंग में जो घोटाला और रिश्वतखोरी थी क्या उसमें भाजपा की भागीदारी थी। इस हादसे की क्या भाजपा जिम्मेदारी लेगी।


Copyright @ 2019.