विशेष (18/04/2022) 
ऑटो-टैक्सी चालकों ने बढ़ते, पेट्रोल और डीजल के दामों के चलते किया सीएम आवास का घेराव

देश में बढ़ती महंगाई के मुद्दे को लेकर पेट्रोल-डीजल, गैस, सीएनजी जैसी, ईंधनों के बढ़ते दामों पर देश में जगह जगह धरने प्रदर्शन कर, बढ़ती महंगाई पर लोग विरोध कर रहे हैं। ऐसे में दिल्ली-एनसीआर में सीएनजी की बढ़ती कीमतें कम करने, किराए में बढ़ोत्तरी समेत कई अन्य समस्याओं की मांगों को लेकर ऑटो, टैक्सी और मिनी बस चालक और ऐसे ही कई संगठनों के लोग सोमवार को हड़ताल करने के फैसले से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़  रहा है। दिल्ली-एनसीआर में तकरीबन 95 हजार ऑटो और 75 हजार से अधिक टैक्सियां पंजीकृत हैंहैं  और अधिकतर संगठनों ने हड़ताल करने की घोषणा की है, जबकि सर्वोदय ड्राइवर एसोसिएशन दिल्ली ने अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है।
कई संगठनों ने अपनी मांगों के समर्थन में ऑटो-टैक्सी चालक सहित सीएम आवास के बाहर पहुंच गए हैं  और धरना प्रदर्शन कर रहे हैं।
दिल्ली में 2 दिन के हड़ताल के दौरान रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, जैसी कई जगह पूरी तरह खाली दिखाई दे रहा  है और आने जाने वाले लोगों को परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। सीएनजी के बढ़ रहे दाम, एक महीने में सीएनजी की कीमतें 30-32 रुपये प्रति किलो बढ़ चुकी हैं। इसी दौरान सभी आटो-चालक हड़ताल पर हैं।
दिल्ली-एनसीआर में ऑटो टैक्सी और कई संगठनों की हड़ताल से दिल्ली वासियों की परेशानी देखते हुए,
परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा, ऑटो-टैक्सी चालकों की दिक्कतों और मांगों पर विचार करने के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। यह समिति पूरे मामले पर विचार करेगी, उसकी सिफारिशों के अनुरूप ही कदम उठाए जाएंगे। तब तक ऑटो-टैक्सी चालकों को दिल्लीवासियों की परेशानियों का मद्देनजर रखते हुए, हड़ताल बंद करने की अपील की है।

Copyright @ 2019.