विशेष (23/04/2022) 
दिल्ली कांग्रेस के 15 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल जहांगीरपुरी में दंगा पीड़ित लोगों से मिला।
दिल्ली कांग्रेस जहांगीर पुरी दंगों के बाद बुलडोजर की कार्यवाही से प्रभावित पीड़ितों के लिए मुआवजे की मांग करती है। - चौ0 अनिल कुमार


वीरवार को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के नेतृत्व में, कांग्रेस पार्टी का 15 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडलप्रतिनिधिमंडल वीरवार को कांग्रेस अध्यक्ष  सोनिया गांधी जी का सद्भावना संदेश लेकर जहांगीर पुरी में दंगा पीड़ित लोगों से मिलकर सभी वर्गों के लोगों के दुख दर्द को बांटा। प्रतिनिधिमंडल के समक्ष पीड़ित लोगों ने बताया कि हमारा आपस में कोई वैरभाव नही है, हम दंगा नही चाहते, जो भी हुआ बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण था, इसमें बेगुनाह और गरीबों का नुकसान हुआ है।


प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के अलावा कांग्रेस महासचिव  अजय माकन, अ0भा0क0कमेटी के दिल्ली प्रभारी श्री शक्तिसिन्ह गोहिल, अ0भा0 महिला कांग्रेस अध्यक्ष नेटा डिसूजा, अ0भा0क0कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़िया, अ0भा0क0कमेटी एससी सेल के चैयरमेन  राजेश लिलौठिया, पूर्व सांसद कृष्णा तीरथ, दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री  हारुन यूसूफ, पूर्व विधायक देवेन्द्र यादव, राज्यसभा सांसद कु0 जेबी माथर, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष  जय किशन,  अभिषेक दत्त, श्री मुदित अग्रवाल और श्री अली मेंहदी, कम्युनिकेशन विभाग के चैयरमेन एवं पूर्व विधायक  अनिल भारद्वाज, पूर्व विधायक  हरी शंकर गुप्ता, जिला अध्यक्ष विशाल मान और प्रवक्ता डा0 नरेश कुमार शामिल थे।


चौ0 अनिल कुमार ने निगम प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाओ अभियान पर कटाक्ष करते हुए कहा कि क्या उत्तरी दिल्ली नगर निगम कार्यालय अब भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के निर्देश पर चल रहा है क्योंकि भाजपा के इशारे पर की गई तोड़फोड़ से जिन गरीब रेहड़ी पटरी वाले वेंडरों को भारी नुकसान हुआ है, वे किसी धर्म या वर्ग में बटे हुए लोग नही हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली कांग्रेस जहांगीर पुरी दंगों के पीड़ितों के लिए मुआवजे की मांग करती है। उन्होंने कहा कि अगर स्ट्रीट वेंडर एक्ट -2014 रेहडी पटरी वालों को सुरक्षित करने के लिए बनाया है तो प्रशासन द्वारा तोड़फोड़ की कार्यवाही पूरी तरह अवैध है जिसे जल्दबाजी में बिना कोई नोटिस दिए अंजाम दिया गया।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा , जहांगीर पुरी दंगों के बाद भाजपा के इशारे पर निगम द्वारा चलाए गऐ बुलडोजर की गैर कानूनी कार्यवाही पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल चुप्पी साधे है। अरविन्द केजरीवाल द्वारा मौन रहना यह साबित करता है उन्होंने गरीबों के प्रति कोई संवेदना नही है। उन्होंने कहा कि भाजपा और आम आदमी पार्टी दोनो गरीब विरोधी है, जहांगीर पुरी दंगो और उसके बाद बुलडोजर चलाने के बाद यह साबित हो गया है।


कांग्रेस महासचिव एवं पूर्व केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री  अजय माकन ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की निगम प्रशासन में दखल अंदाजी का खामियाजा गरीब रेहड़ी पटरी वाले भुगत रहे है। उन्होंने कहा कि गरीब रेहड़ी पटरीवालों की अजीविका को सुरक्षित रखने के लिए  The Street Vendors (Protection of Livelihood and Regulation of Street Vending) Act-2014     बनाया गया था। उन्होंने कहा कि, सुप्रीम कोर्ट द्वारा बुलडोजर को रोकने के आदेश के बावजूद तोड़फोड़ जारी रखना गरीब लोगों प्रहार है। उन्हांने कहा कि बिना कानूनी प्रक्रिया पूरी किए बिना बुलडोजर चलाना पूरी तरह गैर कानूनी है। उन्होंने कहा कि इसे धर्म की आड़ में नही देखना चाहिए क्योंकि कार्यवाही में गरीब रेहड़ी पटरीवालों का भारी नुकसान हुआ है।

 शक्तिसिन्ह गोहिल ने कहा कि जहांगीर पुरी के दंगों में भाजपा की चिन्हित लोगों को निशाना बनाया है परंतु 1991 में बनी  Religious Committee-Delhi Govt.  जिस तरह काम करती है उसके अनुसार किसी भी तरह के धार्मिक स्थानों (मंदिर, मस्जिद आदि) के दायरे में किसी भी तरह के अतिक्रमण को हटाने पर कार्यवाही अथवा छेड़छाड़ बिना  Religious Committee   की मंजूरी लिए नही की जा सकती, भाजपा के इशारे पर चलाया गया बुलडोजर पूरी तरह गैर कानूनी है। कानूनन अतिक्रमण हटाने के लिए जो नोटिस दिया जाना था वह भी नही दिया गया और भाजपा के राज में शासन प्रशासन विधि विधान से न चलकर बुलडोजर से चलाया जा रहा है जो लोकतंत्र के लिए अभिशाप साबित होगा।

Copyright @ 2019.