खेल (24/03/2023) 
विश्व महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप के आयोजकों का मीडिया के प्रति उदासीन रवैया
मीडिया रूम में रखें होते हैं कैमरे और लैपटॉप व लाखों का सामान आउट साइडर आकर उड़ाते हैं मीडिया की सुविधाओं का पूरा लाभ।        

                 ‌                                    नई दिल्ली 203 मार्च। विश्व महिला मुक्केबाजी के आयोजकों ने ठान रखी है कि हम नहीं सुधरेंगे मालूम हो कि 1 दिन पूर्व गुरुवार को ही मीडिया रूम में जैसा माहौल चल रहा था उसको उजागर हमारे संवाददाता द्वारा पूरा विवरण के साथ किया  था लेकिन आयोजकों और वहां लगे वॉलिंटियर्स की मनसा सुचारू रूप से काम चलाने की नहीं लगती वहां की स्थिति यह है कि वहां कुछ भी बदलने को तैयार नहीं है बल्कि हालत यह है कि स्थिति पहले से खराब हो गई है वहां के वॉलिंटियर्स मीडिया का सहयोग करने के बजाय धमकियां देने में लगे हुए हैं कि आप ऐसी वैसी खबरें ना डालें बल्कि स्थिति यह है कि मीडिया रूम में मीडिया के अलावा कोई भी व्यक्ति आ जा सकता है जबकि उसी कमरे में लाखों रुपए के  कैमरे और रिपोर्टर्स के लैपटॉप रखे रहते हैं जिनकी सुरक्षा भगवान भरोसे ही है क्यों क्योंकि ना तो वहां आने-जाने वालों से कोई पूछने वाला है कि कौन अंदर आ रहा है और ना ही यह पूछने वाला है कि कौन बाहर जा रहा है हर कोई अपनी मनमर्जी से उस कमरे में आता है और चले जाता है इस बाबत आज खुद संवाददाता ने कुछ लोगों को पकड़ कर बाहर किया है ऐसी ही स्थिति वहां फैली गंदगी की भी है टेबल पर अक्सर गंदगी पड़ी रहती हैं सफाई करने वाले भी बड़ी मुश्किल से पहुंचते हैं इसका नजारा खुद मीडिया रूम में पहुंच कर देखा जा सकता है। आयोजकों द्वारा भले ही रिजल्ट व्हाट्सएप पर भेजा जा रहा है मगर जिन्हें वहां हाथ से या अन्य तरह से स्टोरी लिखनी है‌ तो उन्हें रिजल्ट कैसे मिलेगा प्रिंट मांगने पर बताया जाता है कि जब आएगा तो लिंक भेज दिया जाएगा इससे पता चल सकता है कि मीडिया रूम की स्थिति क्या है, परिणाम लिखने के लिए उन्हें व्हाट्सएप से प्रिंट निकालने के लिए भी मशक्कत करनी पड़ रही है।
दिल्ली से विजय कुमार  की रिपोर्ट
Copyright @ 2019.