23/02/2018    दृष्टिबाधित क्रिकेट विश्व कप के विजेताओं हुए सम्मानित
सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा प्रवासी भारतीय केंद्र नई दिल्ली में आयोजित भव्य कार्यक्रम में सामाजिक न्याय और अधिकारिता केंद्रीय मंत्री थावरचन्द गेहलोत द्वारा दृष्टिबाधित क्रिकेट विश्व कप के विजेताओं को जागरूकता सृजन और प्रचार योजना के तहत सम्मानित किया गया I

दृष्टिबाधित क्रिकेट विश्व कप के विजेताओं को पुरस्कार स्वरूप 2.00 लाख रुपए प्रत्येक खिलाड़ी (कुल 17 खिलाडियों ) को दिये गये I अपने सम्बोधन में केंद्रीय मंत्री थावरचन्द गेहलोत ने विश्व कप जीतने पर भारतीय  दृष्टिबाधित क्रिकेट टीम को बधाई दी, और कहा कि दृष्टिबाधित क्रिकेट टीम चोथी बार विजेता बन कर आयी है जिसपे हमें गर्व करना चाहिये । आगे उन्होंने कहा की सरकार, ग्वालियर, मध्य प्रदेश; विशाखापट्टनम, आंध्र प्रदेश एवं जिरकपुर पंजाब में दिव्‍यांगता खेलों के 3 केंद्रों की स्थापना करने जा रही है जिसके लिए संबंधित राज्‍य सरकारों से भूमि प्राप्‍त कर ली गई है। सरकार ने दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम, 2016 अधिनियमित किया है, जो दिनांक 19.04.2017 से प्रभावी हुआ है । नया कानून न केवल दिव्‍यांगजनों को और अधिक अधिकार और हकदारियां प्रदान करता है, अपितु सरकार को भी दिव्‍यांगजनों के लिए अन्य बातों के साथ-साथ समावेशी शिक्षा, स्वास्थ्य, पुनर्वास, कौशल और विकास, मनोरंजन तथा खेलकूद गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए उचित उपाय करने हेतु अधिदेशित करता है।  यह बेंचमार्क दिव्यांगता वाले व्यक्तियों की विभिन्न श्रेणियों के लिए सरकारी नौकरियों में 4% आरक्षण और उच्‍चतर शिक्षा संस्‍थानों में 5% आरक्षण भी प्रदान करता है| उपरोक्त के अतरिक्त उन्होंने 5 विश्व रिकॉर्ड का भी जिक्र किया I
इस अवसर पर सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के राज्य मंत्री, रामदास आठवले, ने कहा की दृष्टिबाधित क्रिकेट खिलाड़ियो ने भारत का नाम रोशन कर दिया है जो की वधाई  के हक़दार है  इसके साथ ही उन्होंने 2.68 करोड़ दिव्यांगजानो को लाभ के लिए कार्यरत योजनायो का भी जिक्र किया ।

मंच पर आयोजित कार्यक्रम में स्वमान लर्निग सेंटर के दिव्यांग छात्रों द्वारा संIस्कृतिक प्रस्तुति दी गयी जिसने सभागार में उपस्थित दर्शको को मंत्रमुग्ध कर दिया एवम दर्शको ने इसका तालियों की गड़गड़ाहट से स्वागत किया I

कार्यक्रम में दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग की सचिव शकुन्ताला डौले गामलिन, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के संयुक्त सचिव डाॅ.प्रबोध सेठ, एव अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित थे।



Click here for more interviews
Copyright @ 2017.