15/12/2017 एनजीटी ने गंगा के किनारों पर स्थित शहरों में प्लास्टिक की चीजों पर रोक लगाई

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने गंगा नदी के किनारे स्थित हरिद्वार और रिषिकेश जैसे शहरों में आज कैरी बैग, प्लेट और कटलरी जैसी प्लास्टिक से बनी चीजों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने उत्तरकाशी तक इस तरह की चीजों की बिक्री, विनिर्माण और भंडारण पर भी रोक लगा दी।
हरित अधिकरण ने कहा कि आदेश का उल्लंघन करने वालों पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगेगा और गलती करने वाले अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। एनजीटी ने यह उल्लेख करने के बाद आदेश पारित किया कि इसके पूर्व के आदेश के बावजूद इन क्षेत्रों में प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल किया जा रहा है जिससे गंगा नदी में प्रदूषण हो रहा है। हरित इकाई पर्यावरणविद एमसी मेहता की याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

 

15/12/2017 सरकार ने तीन तलाक को प्रतिबंधित करने के लिए विधेयक के मसौदे को मंजूरी दी

गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाले अंतर-मंत्रालयी समूह ने विधेयक का मसौदा तैयार किया था। इस समूह में वित्त मंत्री अरूण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और कानून राज्य मंत्री पी पी चौधरी शामिल थे। प्रस्तावित कानून सिर्फ एक बार में तीन तलाक के मामले में लागू होगा और इससे पीड़िता को अधिकार मिलेगा कि वह ‘उचित गुजारा भत्ते’ की मांग करते हुए मजिस्ट्रेट से संपर्क कर सके।
 

15/12/2017 नरेला मंड़ी में आयोजित किया गया एक निशुल्क मेडिकल चेकअप कैंप

 

14/12/2017 गुजरात में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलने के आसार : एग्जिट पोल

 

14/12/2017 हिन्दुओं की आस्था और भावना से खिलवाड न करे एनजीटी महंत सुरेंद्रनाथ अवधूत

नई दिल्ली। सनातन हिंदू वाहिनी (पंजी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं प्राचीन सिद्धपीठ श्री कालका जी मंदिर के पीठाधीश्वर महंत श्री सुरेद्रनाथ अवधूत जी महाराज ने भारत के महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी से आग्रह किया है कि वे करोडों हिन्दुओं की भावना और आस्था से जुडे बाबा अमरनाथ में जयकारे व घंटी ध्वनि पर प्रतिबंध के एनजीटी के तुगलकी फरमान पर अंकुश लगाए। महंत श्री अवधूत ने कहा कि आश्चर्य की बात है कि एनजीटी अपने दायरे से बाहर आकर उल्टे-सीधे आदेश देकर हिन्दू हितों से कुठाराघात कर रही है। जयकारे और घंटी ध्वनि से कौन सा प्रदूषण बढता है, इस विषय में एनजीटी स्पष्ट करे। श्री अवधूत ने कहा कि इस प्रकार के बेतुके आदेश कभी वैष्णो देवी यात्रियों पर, तो कभी अमरनाथ यात्रियों की आस्था पर वहां बैठे एनजीटी के सिरमौरों के मानसिक दिवालिएपन को दर्शाता है। उन्होने महामहिम र

 



Copyright @ 2017.