18/07/2015  बाढ़ से निपटने के नहीं है इन्तेजाम
हरिद्वार के लक्सर क्षेत्र में गंगा के किनारे पिछले कई सालो से बरसात के मौसम से पहले बाढ़ के खतरे से निपटने के लिए करोडो रुपए की लागत से तट बंध बनाए गए। जबकि बरसात की शुरूआती बारिश को भी ये तटबन्ध नहीं झेल पाए है। जगह जगह तट बांधो में कटाव से ये साफ़ है की निर्माण में रेतीली मिट्टी का इस्तेमाल किया गया है । जिसके चलते तटबध क्षति ग्रस्त हो चूके है।पिछले दिनो की बारिश से ही इन तट बंध में कई जगह दरार आ गई है । जिस से दो दर्जन से भी ज्यादा गाँवों में बाढ़ का खतरा बना हुआ है।स्थानीय लोगो का कहना है की ठेकेदार ने पुरे तटबन्ध में रेतीली मिटटी से भराव किया है। दो दिन की बारिश से ही इस तटबंध में इतनी बड़ी बड़ी दरार आ गई है। यदि 2 दिन और तेज बारिश आ गई तो तटबंध टूट जायेगा। और गांव इसकी चपेट में आ जायेंगे।ऐसे में आज से एक बार फिर हरिद्वार में शुरू हुई बारिश ने लोगो की मुसीबते और बढ़ा दी है। जबकि सम्बन्धित अधिकारी अभी किसी बड़ी समस्या के सामने आने के इन्तजार कर रहे है।
Copyright @ 2017.