दिल्ली, DELHI हरियाणा , HARYANA पंजाब, PUNJAB चंडीगढ़, CHANDIGARH हिमाचल HIMACHAL राजस्थान, RAJASTHAN अंर्तराष्ट्रीय INTERNATIONAL उत्तराखण्ड, UTTRAKHAND महाराष्ट्र , MAHARASHTRA मध्य प्रदेश MADHYA PRADESH गुजरात GUJRAT नेशनल, NATIONAL छत्तीसगढ CG उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH बिहार, BIHAR Hacked BY MSTL3N Hacker # ~
Breaking News
अब बरेली और बिहारशरीफ सहित नौ शहर स्मार्ट सिटी में शामिल होंगे   |  पद्मावत का सीबीएफसी प्रमाणपत्र रद्द करने पर तत्काल सुनवाई की अपील खारिज   |  केजरीवाल को हाई कोर्ट से लगी फटकार, मुसीबत बढ़ी    |  मोदी कर रहे है देश की सभी बिमारियों का इलाज - मेघवाल   |   पत्रकार नंद किशोर त्रिखा को प्रेस क्लब में श्रद्धाञ्जलि दी गयी ।   |  संघर्ष विराम उल्लंघन के रोकने के लिए भारतीय सेना तैयार    |  नाबालिग स्कूटी सवारों को मिनी ट्रक ने मारी टक्कर, दो की मौत   |  मां न बन पाने पर लगाया,मौत को गले    |  मुख्यमंत्री का जीटीबी का औचक निरीक्षण, मरीजों से जाना अस्पताल का हाल    |  अश्लील वीडियो बनी इंटरनेशनल बॉक्सर की हत्या की वजह    |  
दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा सीट पर उपचुनाव का परिणाम। सभी पाठकों को डॉ भीम राव अम्बेडकर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ।Hackd MsTl3n MCD चुनाव के पहले रुझान में बीजेपी आगे।नगर निगम चुनाव के पहले रुझान में कांग्रेस ने आप को पछाडा।
18/06/2016  
भारत के NSG समर्थन में UK भी साथ
 
 

परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) की सदस्यता के लिए भारत के प्रयासों को ब्रिटेन का भी समर्थन मिल गया है. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एनएसजी की सदस्यता के लिए मजबूत समर्थन देने का आश्वासन दिया है. यह कदम एनएसजी की अगले सप्ताह होने वाली महत्वपूर्ण बैठक से पहले भारत को मजबूती प्रदान करने वाला है.कैमरन ने गुरुवार को मोदी से फोन पर बातचीत कर 48 सदस्यीय एनएसजी में भारत की सदस्यता के लिए ब्रिटेन के समर्थन की पुष्टि की. डाउनिंग स्ट्रीट के एक प्रवक्ता ने कहा, 'प्रधानमंत्री ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह की सदस्यता के लिए भारत के आवेदन के बारे में बात की. परमाणु आपूर्तिकर्ता देशों का यह समूह परमाणु हथियारों को बनाने में इस्तेमाल हो सकने वाली सामग्री, उपकरणों औरप्रौद्योगिकी के निर्यात पर नियंत्रण करके परमाणु प्रसार को रोकने के लिए मिलकर काम करता है.

' प्रवक्ता के मुताबिक, 'प्रधानमंत्री ने इस बात की पुष्टि की कि ब्रिटेन भारत के आवेदन का पुरजोर समर्थन करेगा. उन्होंने इस बात पर सहमति जताई कि प्रयास को सफल बनाने के लिए भारत के लिए अप्रसार के प्रमाणों को मजबूत करते रहना महत्वपूर्ण होगा, जिसमें असैन्य और सैन्य परमाणु गतिविधियों के बीच भेद करना शामिल है.' दोनों नेताओं ने टेलीफोन बातचीत में ब्रिटेन-भारत संबंधों का भी जायजा लिया. बयान में कहा गया कि उन्होंने इस बात को माना कि ब्रिटेन-भारत संबंध मजबूत हो रहे हैं, जिसके कारणों में ब्रिटेन के राजकुमार प्रिंस विलियम और उनकी पत्नी कैट की हालिया भारत यात्रा भी शामिल है. एनएसजी की सदस्यता के लिए भारत के प्रयास को अमेरिका से भी बल मिला है, जिसने अन्य सदस्यों को पत्र लिखकर 24 जून को सोल में आयोजित होने वाले समूह के पूर्ण सत्र में भारत के प्रयास का समर्थन करने को कहा है. वहां इस प्रतिष्ठित समूह में से अधिकतर देशों ने भारत की सदस्यता का समर्थन किया है, वहीं चीन के साथ आयरलैंड, तुर्की, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रिया इसमें भारत के प्रवेश के पक्षधर नहीं हैं.चीन भारत के प्रवेश पर यह दलील देकर विरोध दर्ज करा रहा है कि उसने परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं. चीन चाहता है कि अगर एनएसजी भारत को किसी तरह की छूट देता है तो उसके करीबी सहयोगी पाकिस्तान को भी सदस्यता प्रदान की जाए. भारत इस बात पर जोर दे रहा है कि एनएसजी में शामिल होने के लिए एनपीटी पर हस्ताक्षर करना जरुरी नहीं है. भारत ने इस बाबत फ्रांस का उदाहरण देते हुए कहा कि इस तरह की मिसाल पहले भी देखने को मिली है. भारत एनएसजी में प्रवेश के लिए समूह के सदस्य देशों से संपर्क साध रहा है. एनएसजी आम-सहमति के सिद्धांत के तहत काम करता है और भारत के खिलाफ एक भी देश का वोट उसके प्रयास को बाधित कर सकता है.

      Back
 
Copyright @ 2017.