20/07/2017  
पंजाब के निरंकारी संत मथुरा आये
 
 

पंजाब से आये निरंकारी प्रचारक संत ने कहा
सब परमात्मा की संतान, फिर विभिन्नता क्यों

मथुरा। संत निरंकारी मंडल दिल्ली मुख्यालय के निर्देश पर तलवाड़ा (पंजाब) के प्रचारक महात्मा श्री विनोद भाटिया जी आगरा जोन की 21 दिवसीय आध्यात्मिक प्रचार यात्रा पर निकले हैं, उन्होंने पहले पड़ाव मथुरा जनपद में दो दिन, चार सत्संग कार्यक्रमों को सम्बोधित कर निरंकारी सत्गुरू माता सविन्दर हरदेव जी महाराज का संदेश दिया।संतश्री भाटिया जी ने बताया कि निरंकारी मिशन विश्व के हर इंसान को मूल तत्व परमपिता परमात्मा के साथ जोड़कर, मानवीय गुणों से सुशोभित कर रहा हैं। उन्होंने कहा कि हर इंसान प्रभु परमात्मा की संतान हैं, इसके वावजूद जाति या धर्म के नाम पर, भाषा या पहनावे के नाम पर विभिन्नता नजर आती हैं। इसका कारण है परमात्मा को अलग-अलग समझने की अज्ञानता। जिसके कारण दूरियां और मतभेद हैं। निरंकारी संत ने कहा कि सारा संसार प्रभुमय हैं, सभी में एक परमपिता परमात्मा की ज्योति है। इस नाते सब हमारे अपने हैं, आओं सबसे प्यार करें। उन्होंने कहा कि कोई बड़ा या छोटा नहीं, सभी के अंदर समान तत्व हैं। किसी घटना में मरने वाला न मुसलमान होता हैं और न ही हिन्दू , वह केवल इंसान होता हैं। इंसान की अहमियत तभी बढ़ेगी जब हम सब मानव धर्म को अपनायेंगे। इसके लिए हर इंसान को मानवीय गुणों के स्त्रोत प्रभु परमात्मा के साथ जुड़ना होगा। संत जी ने बताया कि परमात्मा विविध कर्मकाण्ड या आडम्बरों से नहीं, बल्कि ब्रह्मवेत्ता सत्गुरू की कृपा से मिलता हैं। वर्तमान में निरंकारी मिशन, सत्गुरू माता सविन्दर हरदेव जी महाराज के मार्गदर्शन में विश्व भर में सत्य, प्रेम, शांति, एकता और भाईचारे का संदेश दे रहा हैं। सत्संग में प्रसिद्ध कलाकार भक्त "जीवन गीतकार" का गीत प्रेरणादायक रहा, बोल थे
"प्यार से है रहना, नफरत न करना
सारा जग है अपना, हैं सत्गुरू का कहना" ।

सारथी दीपक ने "जन जन की अरदास पूरी कर दाता" गीत प्रस्तुत किया, प्रचारक धर्मसिंह जी ने कहा कि निरंकारी मिशन प्यार की महक फैला रहा हैं। दो दिन प्रचार कारवां की अगुवाई कर रहे मीडिया प्रभारी किशोर "स्वर्ण" ने बताया कि कोसीकला में मुखी श्री शरनकुमार, मूलचंद कर्दम, फरह में मुखी श्री घासीराम तथा मथुरा संयोजक श्री हरवन्द्र कुमार, मोहनसिंह, जितेंद्र सिंह ने संतों का भावपूर्ण स्वागत किया। श्री विनोद भाटिया मथुरा के नवादा स्थित निरंकारी भवन, कोसीकलां और फरह में सत्संग को सम्बोधित कर अगले पड़ाव आगरा के लिए रवाना हो गये।

      Back
 
Copyright @ 2017.