19/12/2017  
अन्न सुरक्षा के लिए यूपीएल का “अनाजबचाओ दाना दाना कीमती है” अभियान'
 
 

कंपनी किसान जागरूकता हेतु जमीनी स्तर पर भण्डारण परदेशव्यापी कार्यशाला आयोजित करेगी     गाज़ियाबाद; 19 दिसंबर:  देश निरंतर अपनी अन्न उत्पादन क्षमताको बढ़ा रहा है पर वहीं दूसरी ओर कई कारणों से किसानों के खूनपसीने से उपजी फसल भंडारण की गलत विधियों के कारण बर्बाद होजाते हैं। इसी बर्बादी को रोकने के लिए कृषि आधारित भारतीय कंपनी यूपीएल ने अनाज बचाओ दाना दाना कीमती हैमुहिम की शुरुवातगाज़ियाबाद के मुरादनगर तहसील के सुहाना और रावली गांव से बड़ेधूम धाम से की।

हिम के अंतर्गत गांव के किसानों को अपने अनाज को सरल वैज्ञानिकतरीकों से भंडारण करने की विधि उनके सामने साक्षात प्रदर्शन के द्वारादिखाया गया। इस मुहिम में गांव के सैकड़ों किसानों ने बढ़ चढ़ करहिस्सा लिया और अपने उपजाए अन्न की पूरी सुरक्षा की शपथ भी ली। यूपीएल ने इस मौके पर हर  गांव में दो प्रशिक्षित अनाज सुरक्षा मित्रोंकी भी नियुक्ति की जो अपनी स्वेच्छा से गांव में हर घर मे अन्न भंडारणके दौरान होने वाले नुकसान को रोकने की जिम्मेदारी ली और किसानोंको ये उपाय सिखाने का प्रण लिया उज्ज्वल कुमारयूपीएल केफ्यूमिगेंट बिज़नेस प्रमुख के अनुसार इस मुहिम का मुख्य उद्देश्यकिसानों द्वारा खून पसीने से उपजाई अनाज का सही भंडारण करनासिखाना है जिससे उनके अनाज में कीड़े या फफूंद  लगे और उन्हेंअच्छा मुनाफा मिले। आज किसानों का करीब 30 फीसदी अनाज सहीतरह से भंडारण  होने की वजह से बर्बाद हो जाता है जिसकाप्रतिकूल असर उनके आर्थिक स्थिति पर पड़ता है और साथ ही विश्वअन्न सुरक्षा के मार्ग को भी अवरुद्ध करता है।उज्ज्वल कुमार का कहना है कि आज देश में हमे ज्यादा अनाजउत्पादन की आवश्यकता नहीं है बल्कि जो अनाज उत्पादन हो रहे हैउनका सही प्रकार से भंडारण करने की जरूरत है जो  केवल देश मेंअनाज का भंडार बढ़ाएंगे बल्कि किसानों के मुनाफे को भी बढ़ाएंगेइसी उद्देश्य से हम स्वयं किसानों के बीच जाकर उनके घरों, चौखट,गांवों में जाकर उन्हें जागरूक और प्रशिक्षित कर रहे हैं आगामीमहीनों में हम यह मुहीम उत्तरप्रदेश के कई अन्य जिलों में भी शुरू कररहे हैं इस साक्षात प्रदर्शन के दौरान यूपीएल की टीम ने अपने अत्याधुनिकउत्पाद क्विकफोस के उपयोग से इस नुकसान को रोकने की विधिसिखाई और साथ ही इन रसायनों के इस्तेमाल के समय बरतने वालीजरूरी सावधानियों के बारे में भी अवगत कराया।

      Back
 
Copyright @ 2017.