19/12/2017  परीक्षण के दौरान चालकरहित मेट्रो ने तोड़ी डिपो की दीवार
नयी दिल्ली। दक्षिण दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाली मजेंटा लाइन मेट्रो ट्रेन के आज परीक्षण के दौरान बड़ा हादसा होने से टल गया, चालकरहित यह मेट्रो ट्रेन कालिंदी कुंज डिपो के पास दीवार तोड़कर बाहर की तरफ निकल गयी, हादसे में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। दिल्ली की इस पहली चालकरहित मेट्रो ट्रेन को 25 दिसम्बर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हरी झंडी दिखाकर रवाना करने वाले हैं।दिल्ली मेट्रो रेल निगम के अधिकारी ने इस घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि घबराने की कोई जरूरत नहीं है। हादसा शाम करीब साढ़े 3 बजे हुआ। हादसे को लेकर दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने सफाई दी है। डीएमआरसी ने कहा कि जिस व्यक्ति ने मेंटेनेंस स्टाफ से ट्रेन का चार्ज लिया था उसने ब्रेक चेक नहीं किए जिस कारण ट्रेन वॉशिंग प्लांट में रैंप पर न रुककर दीवार से टकरा गई। डीएमआरसी के एमडी ने इस मामले पर तीन अधिकारियों की उच्चस्तरीय जांच समिति बनाई है। पहली नजर में यह मानवीय गलती और लापरवाही का मामला लगता है। इसकी जांच होगी। और रिपोर्ट आने के बाद दोषी अधिकारी के खिलाफ उचित कार्रवाई होगी। यह पहली ऐसी मेट्रो लाइन होगी जिस पर चालक रहित मेट्रो दौड़ेगी। शुरुआत में मेट्रो ट्रेन को चालक ही चलाएंगे, लेकिन बाद में यह ऑटोमैटिक मोड पर चलेगी। 
बॉटनिकल गार्डन से कालकाजी के बीच मेट्रो सेवा शुरु करने के लिए डीएमआरसी ने बीते अक्टूबर माह में सुरक्षा आयुक्त के पास सभी दस्तावेज जमा करवाये थे। पहली बार नए सिस्टम पर चलने वाली इस लाइन की बीते नवम्बर में बारीकी से जांच करने के बाद सुरक्षा आयुक्त ने कुछ शर्तों के साथ मेट्रो चलाने की अनुमति दी थी।
Copyright @ 2017.