17/02/2018  सेंसर बोर्ड द्वारा प्रतिबंधित फ़िल्म एक उड़ान हौसलों से भरी के लिए होगा शांतिपूर्वक प्रदर्शन
नई दिल्ली । फ़िल्म अभिनेता व प्रोडूसर डायरेक्टर  रॉक्सन की फ़िल्म एक उड़ान हौंसलों से भरी को सेंसर बोर्ड द्वारा प्रतिबंधित करने के विरोध में शांतिपूर्वक पदयात्रा निकाली जायेगी । यह पदयात्रा रविवार को रामकृष्ण आश्रम मेट्रो स्टेशन से राष्ट्रपति भवन तक निकाली जायेगी ।इस विषय पर रॉक्सन ने कहा मैंने आर. के. मूवीज एंटरटेनमेंट बैनर तले "एक उड़ान हौसलों से भरी" यह मूवी बनाई है। यह मूवी अनुसूचित जाती-जनजाति, ओ.बी.सी. और अल्पसंख्यक समाज पे आधारित है । इस फिल्म पे भारत सरकार सेंसर बोर्ड ने प्रतिबन्ध लगाया है। यह फिल्म सामाजिक परिवर्तन लेन वाली है। यह फिल्म नहीं बल्कि एक मिशन है, क्योंकि मैं भी एक दलित समाज से हूँ और समाज में जाग्रति लाना यह मेरा कर्त्तव्य है। फिल्म समाज का आइनाः होता है। बॉलीवुड में आज तक हज़ारों फिल्में बनाई गई हैं और आगे भी बनेंगी। लेकिन "एक उड़ान हौसलों से भरी" यह फिल्म शायद बॉलीवुड में ऐसे विषय पे बनाई गई पहली मूवी है। इस फिल्म में हमने एक सवाल किया है। सवाल यह है की यदि एक दलित रामायण, महाभारत तथा संविधान लिख सकता है तो दलितों में इतनी योग्यता होने के बावजूद भी 70 साल में देश का प्रधानमंत्री दलित क्यों नहीं बना?
इस विषय में हमने एक और मुद्दा उठाया है, वह ये है की ग्राम पंचायत, पंचायत समिति, जिला परिषद्, नगर पालिका, महानगरपालिका में रोटेशन सिस्टम लागु है। बस उसी तरह ही रोटेशन सिस्टम मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के लिए लागु हो जाए। देखना यह है की विषय पर अब क्या कार्यवाही होती है और क्या फैसला लिया जायेगा ।
कंचन नेगी

Copyright @ 2017.