24/10/2018  नज़्म - पाने की चाह

पाने की चाह में

खोने का डर सताता है

बिना कुछ पाए ही

दिल सहम जाता है

फ़ितरत में जुड़ा है

ये डर जाना सहम जाना

रुका था न रुकेगा

इंसाँ का बहक जाना

लाख दुआएँ कर लो

फिर भी फ़ितरत न मिटेगी

ये ज़ोफ़-ए-इंसाँहै

जनाज़े तक रहेगी

डॉ. रूपेश जैन 'राहत' 

Copyright @ 2017.