राष्ट्रीय (21/04/2019) 
इंजिनीयरींग के छात्रो ने बनाई वैकल्पिक वाहन
अकोला:- मेकानीक्ल इंजीनियरिंग के अंतिम अंतिम वर्ष के 5 छात्रो ने ऐसी गाडी बनाई है जो इंधन के साथ-साथ ईलेक्ट्रीक पावर से भी चल पायेगी। प्रति दिन पैट्रोल के मात्रा कम होती जा रही है साथ ही इंधन का अधिक उपयोग करने वाली वाहनो से वातावरण भी काफी जहरिला होता जारहा है,हाल मे दिल्ली एवं अन्य मैट्रो सीटी मे प्रदूषण की वजह से सफ्फोकेशन(घुटन) की यातना वहा के नागरिको ने भुगती है।इसकी विशेषता यह है की जब यह वाहन इंधन पर चलेगी स्वचालित रुप से गाडी मे रखी हुई बैटरियां चार्ज होगी,तथा इन बैटरियों से एक चार्ज मे वाहन करीब 40किलो मीटर तक चल पायेगी,साथ ही इन बैटरिबस्तियों को अगर आप चाहे तो चार्जर से भी चार्ज कर सक्ते हौ।प्रदूषण को कम करने तथा मेट्रोस मे घुटन की समस्य को खत्म करने के उद्देश्य से इन छात्रो ने उक्त वाहन की निर्मिती की है,छात्र बताते है की इस वाहन को बनाने मे उन्हे कुल 20 से 25 हजार की लागत लगी है।यह वैकल्पिक वाहन दो लोगो के साथ 30 से 40किलो मिटर फी घंटा की रफ्तार से दौड सक्ती है,अभियांत्रिकी छात्रो का यह इन्वेन्शण बह्तरिन है उन शहरो के लिए जहा प्रदूषण की समस्या काफी है,छात्रो द्वारा बनाई गई यह वाहन अगर ऑटोमोबाइल के सभी नियमो का पालन करती है तथा इन छात्रो को उचित आर्थिक सहयोग और प्रशिक्षण मिलता है तो यह वाहन जल्द ही बड़े पैमाने पर सड़को पर दौड्ती दिखाई देगी।वैकल्पिक कार के निर्माता सैय्यद अजहर,सैय्यद साकिब,सैय्यद अजीम,अह्तेशाम एवं अहमद मूसानी इसे अधिक उपयोगी बनाने मे अब भी लगे है,तथा प्रा तनवीर अहमद उन्हे मर्गदर्शन कर रहे है।
Copyright @ 2019.