राष्ट्रीय (28/06/2019) 
चना वितरण पर लखमा का बयान शर्मनाक: संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय वास्तव ने प्रदेश के आबकारी मंत्री कवासी लखमा के उस कथन का कड़ा प्रतिवाद किया है, जिसमें मंत्री लखमा ने कहा है कि चना का इस्तेमाल सिर्फ चखना के लिए होता है, और उसकी आपूर्ति बंद करने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।  वास्तव ने कहा कि लखमा का यह कथन प्रदेश सरकार की आदिवासी विरोधी मानसिकता को जाहिर करता है। उन्होंने कहा कि आबकारी मंत्री भले ही शायद सरकारी चना का उपयोग चखने के रूप में करते रहे होंगे लेकिन पूर्व सरकार ने वनवासी भाइयो के पोषण के लिए चना प्रदान करने का काम किया था ।
भाजपा प्रवक्ता वास्तव ने कहा कि छत्तीसगढ़ की सत्ता सम्हालने के बाद से ही प्रदेश की कांग्रेस सरकार लगातार जन विरोधी फैसले लेती आ रही है। पिछले कई महीनों से प्रदेश भाजपा आदिवासी क्षेत्रों में नमक-चना वितरण बंद होने को लेकर प्रदेश सरकार का ध्यान खींचती आ रही है। कांग्रेस सरकार ने तब इसे भाजपा का दुष्प्रचार कहकर आदिवासी वर्ग को गुमराह करने का शर्मनाक कृत्य किया था। बेजा प्रलाप करने वाले लखमा को आदिवासियों की प्राथमिकताओं का ध्यान रखना चाहिए लेकिन चना को चखना के तौर पर इस्तेमाल होने की बात कहकर मंत्री ने इसकी आपूर्ति बंद करने को उचित ठहराने की आदिवासी विरोधी चरित्र का प्रदर्शन किया है। वास्तव ने मंत्री कवासी लखमा से अपने इस कथन के लिए प्रदेश के आदिवासी समाज से निःशर्त माफी मांगने कहा है। उन्होंने प्रदेश सरकार से आदिवासी क्षेत्रों में चना की आपूर्ति प्राथमिकता के साथ तत्काल प्रारंभ करने की मांग भी की है।

Copyright @ 2019.